सातवें हफ्ते में आपका शरीर

पिछले पांच हफ़्तों के बाद आपके गर्भाशय का आकार दोगुना हो जाता है। इसके अलावा, इस हफ्ते में आप या तो बहुत अच्छा फील कर सकती हैं या मॉर्निंग सिकनेस की समस्या भी देखी जा सकती है। जो कि इस समय बहुत ही सामान्य माना जाता है, इसमें घबराने की कोई बात नहीं है।  

 

इस हफ्ते में जो सबसे आम बात है वह यह है कि आपको और दिनों की अपेक्षा अधिक यूरिन पास करना पड़ सकता है, क्योंकि बढ़ती रक्त की मात्रा और अतिरिक्त तरल पदार्थ आपके किडनी पर दबाव बनाते हैं। जिस कारण आपको अधिक यूरिन पास करने जैसी समस्या उत्पन हो सकती है। हालाँकि, इस वक़्त आपके शरीर में पहले की अपेक्षा 10 गुना ब्लड की वृद्धि हो जाती है। वही गर्भवस्था के अंतिम महीनों में आपके शरीर में रक्त की मात्रा 40 से 45 प्रतिशत तक बढ़ जाती है, क्योंकि इस समय बच्चे के लिए इसकी जरूरत बढ़ जाती है। जिससे कि आपके गर्भाशय का आकार भी बढ़ने लगता है, और इसके कारण आपको बार-बार यूरिन पास करना पड़ता है।

 

आमतौर पर, ज्यादातर महिलाओं को इस समय मतली जैसा महसूस होता है, लेकिन 14 हफ्ते में प्रवेश करते ही इस समस्या से राहत मिल जाती है। लेकिन, कुछ महिलाओं में यह समस्या अगले महीने तक भी रह सकती है। ऐसे में, इन महिलाओं को बार-बार यूरिन पास करना चाहिए।   

 

हालाँकि, इस समय में आपने अपना फर्स्ट पेरेंटल अपॉइंटमेंट ले लिया होगा, यदि नहीं तो हमारे आर्टिकल को जरूर पढ़े ताकि आपको पता चल सके कि आपको किन-किन बातों की जानकारी होनी चाहिए।  

 

loader