सामान्य प्रसव के लिए जरूर ट्राय करें यह 6 एक्सरसाइज

नॉर्मल डिलीवरी के लिए कौन से व्यायाम करें ? | Normal dilivary ke liye kon se vyayam karen?

गर्भावस्था के अंतिम पड़ाव में पहुँचने के साथ हर महिला की पहली चिंता यह होती है कि उनका प्रसव सामान्य होगा या नहीं। इसके लिए वह तरह-तरह की कोशिशें भी करती हैं, क्योंकि हर माँ  चाहती है कि उसकी डिलीवरी नॉर्मल हो। लेकिन, कई बार कुछ ऐसी परिस्थ‍ितियां सामने आ जाती हैं जिससे कि नॉर्मल डिलीवरी की जगह ऑपरेशन करना पड़ता है।

हालाँकि, देखा जाए तो नॉर्मल डिलीवरी के बाद जहां महिलाओं को रिकवर होने में ज्यादा समय नहीं लगात है, वहीं ऑपरेशन से होने वाली डिलीवरी में मां को काफी समय तक ध्यान रखना पड़ता है। इसलिए आप गर्भावस्था के दौरान एक चीज़ की मदद से नॉर्मल डिलीवरी के चांसेस को बड़ा सकती हैं, और वह है एक्सरसाइज। इतना ही नहीं, गर्भावस्था में व्या‍याम करने से न केवल सामान्य प्रसव के चांसेस बढ़ जाते हैं, बल्कि अन्य समस्याओं जैसे कि पीठ दर्द, कब्ज,गैस जैसी अनेकों समस्या से राहत मिलती है। लेकिन, ध्यान रहे कोई भी एक्सरसाइज शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

गर्भावस्था के दौरान कौन से व्यायाम सुरक्षित हैं ?

टहलना

गर्भावस्था के दौरान सामान्य गति से पैदल चलना या टहलना अच्छा माना जाता है। हालाँकि, इस दौरान आप बहुत तेज ना चलें और दौड़ें। व्यायाम से पूर्व थोड़ा वॉक रकने से शरीर थोड़ा चुस्त हो जाता है, साथ ही रक्त प्रवाह ठीक से होने लगता है।  कोशिश करें की कम से कम एक दिन में 30 मिनट जरूर टहलें। अगर आप वर्किंग वीमेन हैं तो ऑफिस में एक ही जगह बैठने से बचें। इसके लिए आप थोड़े-थोड़े समय मन अपनी जगह से उठ कर चलें।

स्विमिंग

प्रेगनेंसी में दूसरा सबसे सेफ और अच्छा व्यायाम स्विमिंग माना जाता है। क्योंकि, यह व्यायाम आपके  हाथ और पैर के लिए सही होता है। साथ ही पानी में स्विमिंग के दौरान लोग हल्का महसूस करते हैं इसलिए  यह सुरक्षित व्यायाम होता है।

योगा

गर्भावस्था के दौरान योग भी अच्छा माना जाता है, यह मांसपेशियों को लचीलापन बनाए रखता है और साथ ही  आपकी मुद्रा में सुधार करता है। इतना ही नहीं इससे आपके जोड़ों में दर्द की समस्या से भी राहत मिलती है, और आपके दिमाग को आराम और शांति मिलती है।

स्क्वॉट

गर्भावस्था के दौरान स्कॉट काफी सही एक्सरसाइज माना जाता है, क्योंकि यह व्यायाम अपकी श्रोणि को खोलने में मदद करता है और आपके बच्चे के लिए उपयुक्त स्थान भी बनाता है। इस एक्सरसाइज को करने के लिए आप  फिटनेस गेंद का प्रयोग कर सकती हैं। इसे करने के लिए आप दीवार की तरफ कमर कर सीधी खडी़ हों और अपने व दीवार के मध्य बॉल को लगाएं, अब वॉल का एक पुली की तरह प्रयोग करते हुए तब तक नीचे आएं जब तक की आपके घुटने 90 डिग्री के कोंण तक ना आ जाएं। इसे करते समय बिना हील के जूते या चप्पल पहने। इस प्रक्रिया को आप दस बार दौहरा सकते हैं।

पैरों को उठाएं

अपनी पीठ और पेट की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए आप लैग लिफ्ट्स कर सकते हैं। इस आसन को करने के लिए घुटनों और कलाइयों के बल ज़मींन पर स्थिति बनाएं। अब एक पैर को हवा में ऊपर की ओर उठाएं और फिर वापस ले जाएं। ऐसा ही दूसरे पैर से भी करें। एस व्यायाम को आप दस से बारह बार कर सकती हैं।

वी-आकार में बैठें

इसे करने के लिए जमीन पर ट्रेनर (व्यायाम के लिए पानी कर टबनुमा उपकरण) से कमर लगा पीठ के बल बैठें। अपने पैरों और बाहों को सीधा रखें। अब अपने सीधे पैर को थोड़ा सा ऊपर उठाएं और रोक कर रखें, फिर इसे नीचे लाएं। यही प्रक्रिया बायें पैर के साथ भी दोहराएं।   

आमतौर पर देखा जाए तो  प्रसव के दौरान मजबूत मासपेशियों का होना बहुत जरूरी है, ऐसे में यदि आप प्रेगनेंट होने के पहले से ही रोजाना एक्‍ससाइज करती आ रहीं हैं, तो नार्मल डिलिवरी होने के चांस बढ़ जाते हैं। इसके लिए आप कोई फिटनेस सेंटर ज्‍वाइंन कर सकती है, जो आपकी मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए प्रशिक्षण दे सके। लेकिन, इस बात का जरूर ध्यान रखें कि कोई भी एक्सरसाइज करने से पहले डॉक्टर की मदद जरूर लें।

मॉर्डर्न मोना- मदर लाइफस्टाइल! एक दैनिक कॉलम, जहाँ महिलाओं से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है।  जैसे- स्वास्थ्य, फैशन, फिटनेस, बच्चों का रख-रखाव, मनोरंजन, सेक्स आदि की जानकारी के लिए आप अपने सवाल इस ईमेल https://zenparent.in/communityपर भेज सकते हैं।

Open in app
loader