सामान्य प्रसव के लिए घी का सेवन कितना फायदेमंद है ?

प्रेगनेंसी के दौरान महिलाएं हर तरह की परेशानी का सामना करती हैं, लेकिन जो सबसे अधिक कष्टकर होता है वह है डिलीवरी के समय। क्योंकि, इस दौरान माँ को असहनीय पीड़ा का सामना करना पड़ता है। लेकिन, यह भी सच है कि महिलाएं अपने बच्चे को सामान्य प्रसव से जन्म देना ज्यादा पसंद करती हैं, और प्रसव के लिए किसी भी प्रकार की सर्जरी से बचना चाहती हैं।

हालांकि, देखा जाए तो दादी-नानी अक्सर नॉर्मल प्रसव के लिए घी खाने की सलाह देती हैं, खासकर गर्भावस्था के नौवें महीने में। क्योंकि, इनका मानना है कि घी का प्रयोग इन दिनों करने से प्रसव आसानी से और जल्दी होता है।

आमतौर पर, घी पीने से महिलाओं में लेबर पेन जल्दी शुरू होता है। ऐसा माना जाता है कि घी आंतों में उत्तेजना पैदा करता है, जो बढ़कर गर्भाशय तक पहुंच जाती है, इसलिए संकुचन पैदा होते हैं। इसके अलावा, यह भी माना जाता है कि घी योनि को चिकना करने में सहायता करता है, जिससे कि आसानी से प्रसव होने में मदद मिलती है। लेकिन, इस मामले में किसी भी तरह की कोई पुष्टि या शोध नहीं की गई है।

शायद आपको पता होगा कि घी में अतिरिक्त कैलोरी होती है, जो माँ के लिए फायदेमंद माना जाता है। इसके लिए, यह जरूरी नहीं है कि आप अपने शरीर में कैलोरी की मात्रा घी से ही बढ़ाएं, बल्कि आप इसकी कमी को अन्य चीजों के जरिए भी पूरा कर सकती हैं। हालाँकि, एक शोध में यह बात सामने आयी है कि कि एक गर्भवती मां को तीसरी तिमाही में केवल प्रतिदिन 200 अतिरिक्त कैलोरी की आवश्यकता होती है। वहीं, अधिकतर डॉक्टर भी दूसरी व तीसरी तिमाही में प्रतिदिन 300 अतिरिक्त कैलोरी लेने की सलाह देते हैं।

वह महिलाएं जो नॉर्मल डिलीवरी के द्वारा अपने बच्चे को जन्म देना चाहती हैं, वह घी के अलावा भी कुछ चीजों को अपना सकती हैं, जैसे-

  • उचित आहार का सेवन करें।

  • डॉक्टर के बताए निर्देशों का पालन करें।

  • कुछ हल्के एक्सरसाइज करें। श्रोणि मांसपेशीय या केगल व्यायाम कर सकती हैं, जो आपकी श्रोणी मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करेगा।

  • जितना हो सके आराम करें।

आपकी बिंदु- एक दैनिक कॉलम है, जहाँ आपको हर मर्ज़ की दवा मिल सकती है। इसके लिए आप घरेलू नुस्खे, हेल्दी फ़ूड से लेकर तमाम सभी चीज़ों की जानकारियों और अपने सवाल इस ईमेल aapkihindieditor@zenparent.in पर भेज सकते हैं।

loader