प्रेगनेंसी में इन 4 खाद्य और पेय पदार्थों का सेवन इस तरीके से करें, नहीं होगी कोई प्रॉब्लम

प्रेगनेंसी में गर्भवती महिलाओं का अपना विशेष तौर पर ध्यान रखना चाहिए, खासकर अपने खान-पान का। क्योंकि, इन दिनों किसी भी खाद्य-पदार्थों को खाने से पहले उसके बारे में जानना बहुत जरूरी है कि कहीं वह आपके शिशु को किसी तरह का कोई नुकसान तो नहीं पहुंचा रहा है।

हालाँकि, यदि आप इस तरह के खाद्य या पेय पदार्थों का सेवन करती हैं तो आपका सेवन इस तरीके से भी कर सकती हैं, जैसे-

अंडा

ऐसे इसका सेवन न करें

गर्भवती महिलाओं को अधपके अंडे का सेवन नहीं करना चाहिए। खासकर जब आप घर में केक, होममेड डेजर्ट, सॉस, आइस क्रीम, कस्टर्ड आदि के रूप में। क्योंकि, इन सब चीज़ों में कच्चे अंडे का प्रयोग किया जाता है।

ऐसे करें सेवन

यदि इन दिनों आप अंडे का सेवन करती हैं तब आप अंडे को अच्छे से पकाएं खासतौर से 160° F तक। क्योंकि, इससे आपके शिशु को नुकसान नहीं होगा। अगर आप चाहें तो अंडे का पीला हिस्सा फेंक सकती हैं।

मछली

ऐसे इसका सेवन न करें

प्रेगनेंसी में कभी भी अंडरकुक्कड मछली या शेलफिश का सेवन न करें। क्योंकि, शार्क और स्वोर्डफ़िश जैसी बड़ी परभक्षी मछलियों का सेवन न करें, क्योंकि उनमें पारे (मर्क्युरी) की असुरक्षित मात्रा हो सकती है। ये मछलियां संदूषित जल से पारा समाहित कर लेती हैं। यह पारा उनकी मांसपेशियों में मौजूद प्रोटीन से चिपक जाता है और मछली के पकने के बाद भी वहीं बना रहता है।

ऐसे करें सेवन

इन दिनों आप मछली का सेवन सुरक्षित तरीके से कर सकती हैं, जैसे कि आप इसे 145° F पर पकाएं। साथ ही हफ्ते भर में एक से अधिक बार इसका सेवन न करें, वो भी सालमोन, श्रिम्प और ट्राउट के रूप में।  

मांस

ऐसे इसका सेवन न करें

गर्भवस्था के दौरान महिलाएं भूलकर भी अधपके मांस का प्रयोग न करें, क्योंकि इसके सेवन से टोक्सोप्लास्मोसिस नामक संक्रमण होने का खतरा रहता है। ऐसे में, सुनिश्चित करें कि सभी तरह के मांस और फ्रीजर में रखे शीतित तैयार भोजन खाने से पहले अच्छी तरह पकाए जाएं। इसके अलावा, गर्भावस्था में उपचारित (क्योर्ड) मांस या फिर कोल्ड कट्स या कच्चा मांस जैसे कि सलामी आदि न खाएं।

ऐसे करें सेवन

अगर आप मांस का सेवन करती भी हैं तो अच्छे से पके हुए और फ्रेश मांस का सेवन करें। कोशिश करें कि प्रेशर कुकर में इसे अच्छे से गला लें तब खाएं। वो भी दस दिन में एक बार क्योंकि, इसे पचाने में काफी समय लगता है।

पनीर

ऐसे इसका सेवन न करें

प्रेगनेंसी में अपाश्च्युरिकृत दूध और इससे बने डेयरी उत्पादों का सेवन सुरक्षित नहीं माना जाता है। क्योंकि, इनमें ऐसे विषाणुओं के होने की संभावना रहती है, जिनसे पेट के संक्रमण और तबियत खराब होने का खतरा रहता है।

ऐसे करें सेवन

पनीर खरीदने से पहले उस पर लगे लेबल की जांच कर लें कि क्या यह पास्चराइज्ड दूध से निर्मित है, और साथ ही इसे अच्छे से पकाएं।

कॉफी

ऐसे इसका सेवन न करें

प्रेगनेंसी में कैफीन की मात्रा भी कम करें, क्योंकि प्रतिदिन 200 मि.ग्रा. से अधिक कैफीन लेने से गर्भपात और कम-वज़न-वाले शिशु के जन्म का जोखिम बढ़ जाता है।

ऐसे करें सेवन

इसलिए प्रतिदिन दो कप इंस्टेंट कॉफी या दो कप चाय से अधिक का सेवन न करें।

इन सब के अलावा, बाहर के खाद्य-पदार्थों से दूरी बना कर रखें, क्योंकि इससे आपमें संक्रमण होने का खतरा रहता है।  

loader