प्रेगनेंसी में स्ट्रेच मार्क्स सिर्फ आपकी समस्या नहीं

प्रेगनेंसी के दौरान, महिलाओं में स्ट्रेच मार्क्स की समस्या बेहद आम है। हालाँकि कुछ महिलाओं को यह स्ट्रेच मार्क्स नहीं पड़ते, लेकिन सच्चाई यही है कि ज्यादातर महिलाओं को इनसे रूबरू होना ही पड़ता है। कई बार स्ट्रेच मार्क्स जेनेटिक भी होते हैं। यदि इस प्रकार की समस्या आपकी माँ को थी, तो आपमें भी इसके होने की संभावना बढ़ जाती है। इसके अलावा, प्रेगनेंसी में, अचानक से वजन बढ़ने के कारण भी स्ट्रेच मार्क्स की समस्या उत्पन्न होती है। सामान्यतः इसके होने की संभावना, फेयर स्किन वाली महिलाओं की तुलना में डार्क स्किन वाली महिलाओं में अधिक होती है।  

आपके स्ट्रेच मार्क्स पूरी तरह गायब नहीं होंगे, मगर आने वाले कुछ महीनों और सालों में ये काफी हल्के हो सकते हैं। शुरुआत में यह गुलाबी, लाल-भूरे रंग या बैंगनी रंग के हो सकते हैं। साथ ही यह स्ट्रेच मार्क्स अपने आसपास की त्वचा से हल्के रंग की हो सकती है।

स्ट्रेच निशान हटाने के उपाय

मॉइस्चराइजर- मॉइस्चराइजर और कोको बटर स्ट्रेच निशान हटाने में कारगर माना जाता है, क्योंकि गर्भावस्था के दौरान होने वाली खुजली, सूखेपन से मॉइस्चराइजर राहत दिलाती है।  

अंदरूनी पोषण- प्रेगनेंसी के दौरान, ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करें जिसमें विटामिन सी की मात्रा मौजूद हो, क्योंकि यह आपकी त्वचा को टोंड कर अंदर से पोषण देता है।

वजन पर ध्यान रखें- हमेशा अपने वजन पर नज़र बनाए रखें, क्योंकि अधिक वजन बढ़ने से ही स्ट्रेच के निशान पड़ते हैं। ऐसे में प्रेगनेंसी का दौरान अपने आहार में कठौती न करें, और जितना हो सके विटामिन युक्त भोजन का प्रयोग करें।

स्ट्रेच मार्क्स दूर करने का एक तरीका लेजर थैरेपी भी है। हालाँकि, जब निशान लाल, भूरे या बैंगनी हों, तभी इसका इस्तेमाल किया जाए, तो फायदा हो सकता है। लेकिन, यह जरूरी नहीं है कि इससे भी स्ट्रेच मार्क्स से पूरी तरह छुटकारा मिले।  

 

loader