प्रेग्नेंसी में सेक्स और सहज स्थिति के लिए टिप्स

देखा गया है कि अधिकांश महिलाओं में प्रेग्नेंसी के दौरान सामान्य अवस्था की तुलना में शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा कुछ बढ़ जाती है। शरीर की इस प्राकृतिक एवं स्वाभाविक जरूरत के विपरीत अधिकांश लोगों में यह धारणा बनी हुई है कि इस दौरान सेक्सुअल रिलेशनशिप से महिला को या उसके बेबी को नुकसान हो सकता है। वास्तव में यह सत्य नही है, हालाँकि किसी-किसी मामले में किसी विशेष कारण से गायनकोलॉजिस्ट (स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ) इसके लिए मना कर सकते हैं। यह स्थिति असामान्य स्थिति होती है।

यदि प्रेग्नेंसी की अवस्था सामान्य है तो कुछ सावधानियों एवं विशेष पोजीशन में शारीरिक सबंध बनाने में आमतौर पर कोई परेशानी नहीं होती है। बल्कि यह कहना ज्यादा ठीक होगा कि इससे आप न केवल अपने पार्टनर को खुश रख सकती हैं, बल्कि स्वयं भी खुश रहेंगी और यह मानसिक अवसाद से भी दूर रखने में सहायक है, जोकि इस अवस्था के लिए बेहद जरूरी है।

शारीरिक संबंधों बनाने के लिए जो पोजीशन सबसे ज्यादा पसंद की जाती है उसमें आप नीचे और आपका पार्टनर ऊपर रहता है जिसमें अधिकांश एक्टिविटी मेन्स की ही होती है। यदि पेट बढ़ जाता है, तो इस स्थिति से सेक्सुअल रिलेशन बनाने में परेशानी होती है, और साथ ही इसमें पीठ के बल लेटने से सिर भी चकरा सकता हैं।

 

आइए आपको बताते हैं कुछ ऐसे टिप्स जिसमें आप कुछ क्रिएटिव और नया कर सकती हैं-

 

  • प्रचलित पोजीशन में कुछ परिवर्तन करना – यदि आपको ऊपर बताई गई पोजीशन की आदत है और दूसरी पोजीशन को ट्राई नहीं करना चाहती हैं, तो इसी स्थिति में कुछ बदलाव कर सकती हैं। इसमें आप पीठ के बल लेट जाएँ और अपनी हिप के नीचे कोई तकिया आदि रखकर थोड़ा ऊपर उठा लें, पैर बेड के नीचे लटका लें। आपका पार्टनर आपके सामने से पैरों के बीच में आकर सेक्स करता है। इस पोजीशन में फायदा यह होता है कि पेट पर दबाव नहीं पड़ता है, क्योंकि पार्टनर को ऊपर नहीं लेटना होता है। आपके पार्टनर के हाथ आराम से आपके ब्रैस्ट्स और क्लिटरिस तक पहुँच सकते हैं।
  • खुद ऊपर आ जाएँ – इस स्थिति में अपने पार्टनर को पीठ के बल लिटा दें खुद ऊपर आ जाएँ। इस स्थिति में दोनों में कोई भी एक्टिव हो सकता है, जैसा आरामदायक लगे। इस पोजीशन में कई फायदे होते हैं, जैसे- पेट पर दबाव नहीं पड़ता, टाँगें ज्यादा नहीं फैलानी पड़ती, पार्टनर के हाथ आराम से ब्रैस्ट्स और क्लिटरिस तक पहुँच सकते हैं ।
  • डॉगी स्टाइल –  इसमें आप घुटने मोड़ कर और हाथों के सहारे आगे की ओर घोड़ी/डॉगी बन जाएँ और आपका पार्टनर आपके पीछे से आकर सेक्स करे। यह सबसे अच्छी पोजीशन होती है। इसमें भी पेट पर दबाव नहीं पड़ता, और पीठ एवं पेल्विक मसल्स में दबाव नहीं पड़ता, पार्टनर क्लिटरिस को टच कर सकता है, जिससे पूरा ऑर्गेज्म होता है।  

इसमें से सभी पोजिशंस पेट पर दबाव बनने से बचाती हैं, जो प्रेग्नेंसी की अवस्था में बहुत जरुरी है। लेकिन यह भी ध्यान दें कि यदि किसी स्थिति में आपको कष्ट या परेशानी हो तो पार्टनर को तुरंत रोकें। विशेषकर डॉगी स्टाइल में ध्यान रखें यदि पेनेट्रेशन ज्यादा गहराई तक हो, तो नुकसान हो सकता है। इसलिए यदि किसी प्रकार की कोई परेशानी महसूस हो, तो पार्टनर तुरंत बताएँ, और उसे आराम से करने के लिए कहें।  

loader