प्रेग्नेंसी में मॉर्निंग सिकनेस से राहत के घरेलू उपाय

मॉर्निंग सिकनेस या सुबह उठने के बाद हल्का बुखार, जी मिचलाना प्रेग्नेंट महिलाओं में एक आम समस्या है। ऐसा होना अधिकतर महिलाओं और उनके गर्भस्थ बच्चों के लिए नुकसानदायक नहीं होता है। हालांकि, पोषण की कमी के कारण कुछ महिलाएं हाइपरएमेसिस ग्रेवीडेरम की शिकार हो जाती हैं, जिसमे उन्हें अत्यधिक उल्टियां, दर्द और बुखार हो जाता है। मॉर्निंग सिकनेस के इन मामलों में पीड़ित महिलाओं के शरीर में पानी की कमी और अंडरवेट होने की समस्या आ सकती है। ऐसे लक्षण प्रेगनेंसी की शुरुआत में सामने आते है, जिनका जल्दी इलाज मॉर्निंग सिकनेस को बिगड़ने से रोक देता है। समय पर ट्रीटमेंट लेने वाली महिलाओं के दिमाग से किसी बीमारी होने या खुद के ठीक न होने की उलझन ख़त्म हो जाती है।

कभी-कभी इन लक्षणों की वजह कोई संक्रमण या बीमारी हो सकती है। इस कारण सावधानी के तौर पर डॉक्टर द्वारा यूरिन टेस्ट और ब्लड टेस्ट किये जाते हैं। अगर कुछ भी खाने पर उबकाई या उल्टी आना बंद नहीं हो रही तो डॉक्टर आपकी स्थिति के हिसाब से एंटी-सिकनेस दवाएं या एंटीहिस्टामाइन दे सकता है, जो बच्चे के लिए सुरक्षित होती हैं। अगर फिर भी स्थिति में कोई सुधार नहीं होता तो आपको हॉस्पिटल में विशेषज्ञों की देखभाल में रहना पड़ सकता है। जहाँ आपको ड्रिप के द्वारा तरल, विटामिन्स और मिनरल्स दिए जाते हैं। साथ ही एंटी-सिकनेस दवा ड्रिप या इंजेक्शन के माध्यम से दी जाती है।

अगर मॉर्निंग सिकनेस कम है या कभी-कभार होती है तो कुछ घरेलु नुस्खों को आज़मा कर इस समस्या से बचा जा सकता है –

  • दिन की शुरुआत में कोई और काम करने से पहले अपना नाश्ता बिस्तर पर ही करें।  
  • खाली पेट रहने से बचें और दिन के आहार को कुछ छोटे-छोटे मील में बाँट लें।
  • अपने खान-पान में प्रोटीन शामिल करें, जैसे अच्छे से उबले हुए अंडे, डेरी उत्पाद, फलियां, होल ग्रेन, दाल और बीज आदि।  
  • भारी और तेल वाले आहार से परहेज करें। .
  • जब असहज महसूस करें तो तुरंत एक टी स्पून पिसा हुआ जीरा लें।
  • जिन बातों से, जगहों से या आहार से आपको मॉर्निंग सिकनेस होती है उन्हें पहचाने और उनसे बचें।
  • 2 आहारों के बीच में अधिक मात्रा में पानी  पदार्थ पिएं, खाना खाते समय कम पानी पिएं। साथ ही पानी को गटागट पीने के बजाये सिप लेकर पीने से स्थिति में आराम मिलता है।
  • हर सुबह एक चम्मच अदरक का जूस और शहद मिलाकर लें। अदरक या निंबू की चाय, पानी या आइस टी को निंबू के स्लाइस के साथ लेने पर भी आराम मिलता है।

loader