प्रेगनेंसी में महिलाओं को दूध से लेकर इन 5 फ़ूड की मात्रा कितनी होनी चाहिए ?

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपने खान-पान का उचित तरीके से ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि, आपके खान-पान पर ही आपके बच्चे का विकास निर्भर करता है। लेकिन, यह भी सच है कि इस दौरान कौन से आहार की कितनी मात्रा ली जानी चाहिए इसका ध्यान भी रखा जाना चाहिए। आमतौर पर, महिलाओं को इस समय खाने-पीने का अंदाज़ नहीं होता है, जो कि बाद में परेशानी का कारण बन जाता है।  

ऐसे में निचे कुछ खाद्य पदार्थ के नाम बताए जा रहे हैं, जिसका प्रेगनेंसी के दौरान कितनी मात्रा में सेवन किया जाना चाहिए-

कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ

गर्भवती महिला को रोजाना 1200 से 1400 मिलीग्राम कैल्शियम की मात्रा मिलनी चाहिएगर्भावस्था के दौरान माँ के लिए कैल्शियम का सेवन बेहद फायदेमंद माना जाता है, क्योंकि यह बच्चों के हड्डियों के विकास के लिए बहुत जरूरी माना जाता है। ऐसे में, एक । इसके लिए आप अपने आहार में आहार में दूध, दलहन, मक्खन, चीज, मेथी, बीट, अंजीर, अंगूर, तरबूज, तिल, उड़द, बाजरा, मांस आदि का सेवन कर सकती हैं।

प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ

प्रेगनेंसी में शिशु के उचित विकास के लिए रोजाना प्रोटीन की एक उचित मात्रा लिया जाना चाहिए। इसके लिए आप प्रतिदिन 40 से 60 ग्राम प्रोटीन अपने आहार में जरूर शामिल करें। इसके लिए आप अपने आहार में दूध और दूध से बने व्यंजन, मूंगफली, पनीर, चीज, काजू, बदाम, दाल, मछली, अंडे आदि का सेवन कर सकती हैं।

पानी

प्रेगनेंसी में खुद को हाइड्रेटेड रखने के लिए पानी पीना बहुत ही जरूरी है। इसके लिए आप रोजाना 3 से 4 लीटर पानी का सेवन करें। लेकिन, पानी हमेशा साफ और घर का पिएं।

फॉलिक एसिड

इस समय फॉलिक एसिड का सेवन महिलाओं को जरूर करना चाहिए, खासकर गर्भावस्था के शुरूआती महीनों में। क्योंकि, इसके सेवन से जन्मदोष और गर्भपात होने का खतरा कम हो जाता है। ऐसे में, आप रोजाना 600 से 00 माइक्रोग्राम फॉलिक एसिड लेने चाहिए। इसके लिए आप पाने आहार में दाल, राजमा, पालक, मटर, मक्का, हरी सरसो, भिंड़ी, सोयाबीन, काबुली चना, संतरा, दलिया, साबुत अनाज आदि का सेवन कर सकती हैं।

विटामिन

गर्भावस्था के दौरान विटामिन की जरूरत बहुत अधिक होती है। इसके लिए आप हरी पत्तेदार सब्जी, दाल, दूध, अंडे आदि का सेवन करें।

आयोडीन

इस दौरान, आयोडीन आपके शिशु के दिमाग के विकास के लिये आवश्यक है। इसके सेवन से आप अपने बच्चे को मानसिक रोग, वजन बढऩा और गर्भपात जैसी समस्याओं से खुद को बचा सकती हैं। ऐसे में, गर्भवती महिला को रोजाना 200 से 220 माइक्रोग्राम आयोडीन कि आवश्यकता होती है। इसके लिए आप अपने आहार में अनाज, दालें, दूध, अंडे, मांस। आयोडीन युक्त नमक अपने आहार मे आयोडीन शामिल करने का सबसे आसान और सरल उपाय है।   

इसके अलावा, भी गर्भवती महिलाएं इन बातों का ध्यान रखें

  • गर्भवती महिला को हर 4 घंटे में कुछ खाने की कोशिश करनी चाहिए।

  • वजन बढ़ने कि चिंता न करें और अपने खाने पैर ध्यान दें।

  • गर्भवती महिलाओं को कच्चे दूध का सेवन नहीं करना चाहिए।

  • शराब या धूम्रपान का सेवन न करें।  
    कैफीन की अधिक मात्रा में सेवन बच्चे के लिए हानिकारक हो सकता है।

  • गर्भवती महिलाओं को गर्म मसालेदार चींजे नहीं खानी चाहिए।  

मॉर्डर्न मोना- मदर लाइफस्टाइल! एक दैनिक कॉलम, जहाँ महिलाओं से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है।  जैसे- स्वास्थ्य, फैशन, फिटनेस, बच्चों का रख-रखाव, मनोरंजन, सेक्स

loader