प्रेग्नेंसी में कितनी मात्रा में किया जाना चाहिए नमक का सेवन?

हर व्यक्ति को नमक एक सीमित मात्रा में ही खाना चाहिए। शरीर को सही तरह से काम करने के लिए नमक बहुत जरुरी होता है और प्रेग्नेंसी में, यह बात और महत्वपूर्ण हो जाती है कि आप कितनी मात्रा में नमक ले रही हैं। हम केवल सामान्य खाने में प्रयोग होने वाले नमक की मात्रा को ही काउंट करते  हैं। लेकिन ऐसे आहार जिनमें, पहले से ही नमक मौजूद होता है, हमें उन्हें भी काउंट करना चाहिए। इसलिए प्रेग्नेंसी में आप जो भी खा रही हैं, उसमे मौजूद नमक की मात्रा को ध्यान में रखना न भूलें।

नमक में मौजूद सोडियम, हमारे शरीर में तरल पदार्थों के स्तर, तापमान और pH स्तर को नियंत्रित करता है। यह, हमारी मांसपेशियों, नसों और अंगों को सही तरीकें से काम करने में मदद करता है। प्रेग्नेंसी में, शरीर के अंदर रक्त प्रवाह तेज हो जाता है, इसलिए इस समय हर अंग का सही तरीके से काम करना, बहुत जरुरी होता है। नमक में मौजूद आयोडीन, समय से पूर्व जन्म, मिसकैरेज जैसी समस्याओं को होने से रोकता है और बेबी के दिमाग के सही विकास के लिए बहुत जरुरी है।

रोजाना एक प्रेग्नेंट लेडीज को 6 ग्राम (लगभग 1 चम्मच) नमक का सेवन करना चाहिए। यदि आपको हाइपरटेंशन से पीड़ित हैं तो यह आप पर लागू नहीं होता है। लेकिन आपको बहुत आराम से इससे ज्यादा मात्रा में नमक ले लेती हैं।

ज्यादा मात्रा में नमक लेने के नुक्सान-

  • ज्यादा नमक, मतलब ज्यादा सोडियम, जिससें शरीर, पानी को संतुलित करने के लिए, सोडियम को बाहर निकालता है। इसके कारण चेहरे, हाथों, पैरों और टखनों में सूजन आ जाती है।
  • शरीर में पानी की मात्रा अधिक होने से, नसों और धमनियों में बहने वाले खून पर दबाव पड़ता है। जिससे शरीर को ज्यादा मेहनत करनी पड़ती हैं और ब्लड प्रेशर हाई हो जाता है। इसका नतीजा यह निकालता है कि आप स्ट्रोक, दिल और गुर्दे की विफलता, ऑस्टियोपोरोसिस, आदि जैसी समस्याओं  पीड़ित हो सकती हैं।

इसलिए प्रेग्नेंसी में, ज्यादा नमक खाने से बचें और केवल  जो नमक, आप ऊपर से डाल रही हैं, उसे ही नहीं बल्कि, ऐसे फूड्स जिसमें पहले से ही नमक मौजूद है, उस को गिनें।

 

loader