प्रेग्नेंसी में हर महिला में अलग होती है कामोत्तेजना

कुछ लेडीज में, प्रेग्नेंसी के दौरान, कामेच्छा (लिबिडो) कम हो जाती है, जब कि कुछ में यह ज्यादा होती है। ऐसा प्रेग्नेंसी हॉर्मोन के कारण होता है।  

प्रेग्नेंसी के दौरान, लेडीज की ब्रैस्ट का साइज बढ़ जाता है और वह और ज्यादा सेंसिटिव हो जाती हैं। वजाइना, अधिक ब्लड फ्लो के कारण फूल जाती है और ज्यादा सेंसिटिव हो जाती है। इन्हीं सब कारणों से प्रेग्नेंट लेडी का सेक्स की तरफ  रुझान बढ़ जाता है।

कुछ लेडीज, प्रेग्नेंसी की फर्स्ट ट्राइमेस्टर में, (इस अवस्था में हॉर्मोन लेवल बहुत हाई होता है) सेक्स करने में ज्यादा अच्छा महसूस करती हैं और डिलीवरी के आखिरी दिनों तक आराम से सेक्स कर सकती हैं। हालाँकि सभी महिलाएं एक जैसी नहीं होती और न ही हर कपल एक जैसा होता है। हर महिला प्रेग्नेंसी के दौरान, अलग महसूस करती है। इसलिए यदि किसी में, कामेच्छा ज्यादा है तो यह भी सामान्य ही है और किसी में कम तो भी।

कभी-कभी, आपका पार्टनर इस बात को लेकर परेशान हो सकता है कि आप ऐसा व्यवहार क्यों कर रही हैं। उन्हें यह बात समझनी होगी कि इस समय आपके शरीर में बहुत से बदलाव हो रहे हैं, जिस कारण आप ऐसा महसूस कर रही हैं। आप दोनों के लिए यह समय बहुत स्पेशल है। इसलिए इस समय को एन्जॉय करें। इस समय सेक्स के दौरान, आपको बर्थ कंट्रोल या ओवुलेशन को लेकर, किसी बात की चिंता नहीं होती। इसलिए इस समय आप सेक्स को ज्यादा एन्जॉय कर सकती हैं। सेक्स पोजीशन को लेकर आप दोनों आपस में बात कर सकते हैं और ऐसी अवस्था ढूढें, जिसमें आपके बेबी को भी कोई नुक्सान न हो और आप दोनों एन्जॉय भी कर सकें। इस समय, आपके पार्टनर, आपका किस प्रकार साथ देते हैं और प्रेग्नेंसी के दौरान, होने वाले उतार-चढ़ावों से आप कैसे तालमेल बिठा पाती हैं, इन सब बातों पर भी आपकी कामेच्छा निर्भर करती है।

आप प्रेग्नेंसी में, भी संतोषजनक प्रेम संबंध रख सकती हैं। याद रखें कि इस समय आप दोनों को एक दूसरे के और करीब रहना है। आपके पति अवश्य ऐसा तरीका ढूंढ निकालेंगे, जो आपके लिए फायदेमंद हो। एक दूसरे से बात करते रहें। प्रेग्नेंसी के दौरान और उसके बाद भी, यौन संबंधों को बनाए रखने और उनमें सुधार के लिए आपस में बात करना और खुलापन बहुत जरुरी है।

loader