प्रेग्नेंसी में में बच कर रहें हेपेटाइटिस बी से

प्रेग्नेंसी में, जाहिर है डॉक्टर आपके बहुत से टेस्ट करवाते हैं, इन्हीं में से एक टेस्ट है- हेपेटाइटिस बी वायरस टेस्ट। इस टेस्ट के लिए डॉक्टर, आपके ब्लड का सैंपल लेते हैं। हेपेटाइटिस बी का वायरस मुख्य रूप से, लिवर को क्षति पहुंचाता है। यह इतना खतरनाक वायरस है, कि इससे संक्रमित व्यक्ति की जान भी जा सकती है। यह वायरस आपको, रक्त, वीर्य (सीमेन) और शरीर में मौजूद अन्य तरल पदार्थो की सहायता से संक्रमित (इन्फेक्टेड) कर सकता है।  

हेपेटाइटिस बी का इन्फेक्शन कैसे हो सकता है?

  • आपके पार्टनर से- अगर आपके पार्टनर को हेपेटाइटिस बी का इन्फेक्शन हुआ है, तो यौन-संबंध के दौरान, आप भी इससे संक्रमित हो सकती हैं।  
  • जन्म के दौरान माँ से बच्चें को- अगर आपको कभी हेपेटाइटिस बी का इन्फेक्शन हुआ हो तो आपके होने वाले बच्चें को भी हेपेटाइटिस बी का इन्फेक्शन हो सकता है।
  • एक ही सुई से, अगर कई लोगों को इंजेक्शन लगा हो और आप भी वही सुई का इस्तेमाल कर रही हो।
  • टैटू या बॉडी पियरसिंग के लिए इस्तेमाल की गई संक्रमित सुई से, यदि आप भी टैटू या बॉडी पियरसिंग कराती हैं तो आप भी इससे संक्रमित हो सकती हैं।

हेपेटाइटिस बी से संक्रमित लोगों में, थकान, पेट में दर्द, मतली इत्यादि जैसे लक्षण नज़र आ सकते हैं। ऐसा भी संभव हैं कि आपको इसका इन्फेक्शन हुआ हो, लेकिन आपमें कोई लक्षण नज़र नहीं आ रहें हो। .

यदि आपको हेपेटाइटिस बी का इन्फेक्शन नहीं है

अगर आपको हेपेटाइटिस बी का इन्फेक्शन नहीं है, लेकिन इसके होने का खतरा है तो आपकी डॉक्टर आपको, हेपेटाइटिस बी का टीका लगवा सकती हैं।

यदि आपको हेपेटाइटिस बी का इन्फेक्शन है

अगर आपको हेपेटाइटिस बी का इन्फेक्शन हुआ है तो आपकी डिलीवरी के दौरान, आपकी डॉक्टर जरुरी सावधानी बरतती हैं, ताकि आपके बेबी को इसका इन्फेक्शन न हो।

अगर आपको हेपेटाइटिस बी का इन्फेक्शन हुआ है तो आपके लिए, सीजेरियन और नार्मल डिलीवरी, दोनों ही सुरक्षित है। बेबी को जन्म के 12 घंटों के अंदर-अंदर, हेपेटाइटिस बी वैक्सीन का पहला इंजेक्शन दे दिया जाता है। इसके बाद के बचें हुए दो डोज या उससे ज्यादा, बेबी को चेक करने के बाद डॉक्टर बाद में दे देते हैं।

अगर बेबी को जन्म के बाद, हेपेटाइटिस बी का वैक्सीन दे दिए गया है, तो आप उसे ब्रेस्टफीडिंग करवा सकती हैं।

डिलीवरी के बाद भी, आपको रेगुलर चेकअप करवाने की जरुरत पढ़ सकती हैं। क्योकि बाद में भी, वायरस के कारण, आपके लिवर को गम्भीर नुक्सान हो सकता है।

loader