प्रेगनेंसी में अपने बेबी को खूब खिलाएं फ्रूट्स

प्रेगनेंसी में, स्वस्थ खाना, बहुत जरुरी है। बेबी का सही विकास इस बात पर निर्भर करता है, कि प्रेगनेंसी के समय महिला को सही मात्र में पोषण मिला या नहीं। एक प्रेग्नेंट लेडी को, सामान्य लेडीज के मुकाबले  रोजाना 350 से 500 कैलोरी ज्यादा  मिलनी चाहिए।

प्रेगनेंसी में, ज्यादा प्रोटीन, विटामिन और मिनिरल्स, खासकर फोलिक एसिड और आयरन की मात्र सहीं रहनी चाहिए। अगर खाने में पोषक तत्वों की कमी हो जाये, तो बेबी का डेवलपमेंट सही से नहीं होता। इसलिए, प्रेगनेंसी में, फल खाना एक बहुत अच्छा ऑप्शन है। अक्सर, इस हालत में, महिला को स्वीट खाने की भी, बहुत इच्छा होती है, सो फ्रूट्स खाने से उनकी यह इच्छा भी पूरी हो जाएगी और साथ ही इसमें, वाटर-कंटेंट भी बहुत ज्यादा होता है, जो उनकी सेहत के लिए बहुत अच्छा होगा।  

प्रेग्नेंट लेडीज को दिनभर में कम से कम, 3 से 4 बार फ्रूट्स खाना चाहिए। इसके लिए वह, ताजे फल, फ्रोजेन, कैंड (इसमें प्राकृतिक जूस होता है) और ड्राइ फ्रूट्स (जैसे- काजू, बादाम) या 100 % फलों का जूस भी इस्तेमाल कर सकती हैं। फलों में साइट्रस फ्रूट्स जैसे- नारंगी, अंगूर, कीनू को जरूर शामिल करना चाहिए। क्योकि इसमें विटामिन सी बहुत ज्यादा मात्रा में होता है जो प्रेग्नेंट लेडीज के लिए बहुत अच्छा है। लेकिन दिनभर में, एक गिलास से ज्यादा फ्रूट जूस न लें, क्योकि इसमें, ताजे फलों की तुलना में, कैलोरी बहुत ज्यादा होती है। तजों फलों को आप कितना भी खा सकती है,इसमें फाइबर भी ज्यादा होता है। एक बार में आप, एक मीडियम साइज का फ्रूट (जैसे- सेब या संतरा), आधा केला, ½ कप कटे पके हुए फ्रूट्स या कैंड फ्रूट्स, 1/4 कप ड्राई फ्रूट्स और ¾ कप 100 % फ्रूट जूस पी सकती हैं।    

ऐसा कहा जाता है कि प्रेगनेंसी के फर्स्ट ट्रिमस्टर में पपीता, अनानास और आम नहीं खाना चाहिए। इससे उट्रस में कन्ट्रक्शन होता है और प्रेग्नेंट लेडीज के पीरियड शुरू हो जाते हैं, जो बेबी को हार्म कर सकता है। लेकिन इस बात के कोई पक्के साबुत अभी तक नहीं मिले हैं।

loader