“प्रेगनेंसी में खान-पान से जुड़ी गलतफहमियां”

प्रेग्नेंट होने के बाद, हर महिला की चुनौतियां बढ़ जाती हैं, क्‍योंकि वह जो भी करती है, उसका सीधा असर उसके होने वाले बच्‍चे पर पड़ता है। यानी बेबी का पूरा डेवलपमेंट मां पर ही निर्भर करता है। प्रेग्नेंट होने के बाद, लेडीज कई बातें सुनती हैं, जिस कारण कई सारे मिथक भी उसके मन में होते हैं। खासकर, जो महिलाएं ज्वाइंट फैमिली में रहती हैं और घर में, कई सारे बड़े बुजुर्ग होते हैं, उन घरों में कई अंधविश्वासी बातों पर ज्यादा भरोसा किया जाता है।

प्रेगनेंसी के दौरान, क्या खाएं और क्या न खाएं इसकी लम्बी फेहरिस्त बुजुर्गों के पास होती है। हालाँकि उनमें से कई बातें सच भी होती हैं, लेकिन कुछ बातों का कोई आधार नहीं होता। ऐसे में, जरूरी होता है कि आप अपने अपॉइंटमेंट में अपने साथ घर के किसी ऐसे बुजुर्ग को जरूर लेकर जाएँ, जो मिथकों पर ज्यादा विश्वास करते हों।   

प्रेगनेंसी में, खान-पान से जुड़े कुछ ऐसे मिथक जिन्हें, आप अक्सर अपने बड़े-बुजुर्गों से सुनती हैं-  

सभी मिठाई आपकी सेहत के लिए ख़राब हैं– यह सच नहीं है कि मिठाई आपकी और आपके बच्चे की सेहत के लिए अच्छी नहीं होती। यदि आप प्रेग्नेंट हैं और मीठा खाना चाहती हैं तो बिलकुल खा सकती हैं। डार्क चॉकलेट तो प्रेग्नेंट लेडीज के लिए ख़ास तौर पर फायदेमंद होती हैं।

सभी सीफ़ूड आपकी सेहत को नुक्सान पहुंचाते हैं- बहुत सी मछलियों में ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है। यह हमारे शरीर को बहुत सी बिमारियों से लड़ने की शक्ति देता है और यह बेबी के डेवलपमेंट के लिए भी फायदेमंद है। केवल कुछ मछलियों जैसे- शार्क और मर्लिन में, मरकरी की बहुत ज्यादा मात्रा होती है, जो आपको नुक्सान पहुंचा सकती है।

यदि आपको ज्यादा भूख लग रही है तो आपकी होने वाली संतान बेटा होगी- आप कितना खाना खाती हैं यह आपकी क्षमता पर निर्भर करता है, इसका बेबी के लड़का या लड़की होने से कोई मतलब नहीं होता।

‘सॉफ्ट चीज’ आपकी सेहत के लिए अच्छा नहीं है- केवल क्रीम चीज आपके लिए अच्छा नहीं है, बाकि सभी आप खा सकती हैं।  

यदि  मूंगफली खाती हैं तो आपके बेबी को एलर्जी हो जाएगी- ऐसा बिलकुल नहीं है। यह सभी मनगढंत बाते हैं।

डाइट सोडा से कोई नुक्सान नहीं होगा- आर्टिफीसियल स्वीटनर आपकी और बेबी दोनों के लिए अच्छा नहीं है।

कम खाना खाए और जो भी आप खाती हैं वह आपका बेबी ले लेता है- हो सकता है कि इस बात में कुछ सच्चाई हो, लेकिन प्रेगनेंसी के समय वजन कम करने के बारे में तो बिलकुल न सोचें।

दो लोगों के लिए खाए- प्रेगनेंसी की कंडीशन में, आपको केवल 300 ज्यादा कैलोरी की जरुरत होती है। इसलिए जरुरी नहीं कि आप बहुत ज्यादा खाये।

कैसर से बेबी गोरा होता है और आयरन से काला- यह मिथ भारत में बहुत पुराने समय से चला आ रहा है। लेकिन इस बात में कोई सच्चाई नहीं है। आप क्या खाती हैं, इस बात का आपके बेबी के कॉम्प्लेक्शन से कोई कनेक्शन नहीं है। बेबी का कलर, आपके और आपके पार्टनर के जीन पर निर्भर करता है। इसलिए रिलैक्स रहें, कुछ चीजें ऐसी होती हैं, जिन्हें आप कंट्रोल नहीं कर सकती।  

यदि आप ऐसे हीं कुछ मिथ के बारे में जानती हैं तो हमारे साथ शेयर करें।

 

loader