प्रेगनेंसी में, बच्चे के सेल ब्लॉक्स बनाने में मददगार है प्रोटीन

प्रोटीन, जिसमें एमिनो एसिड्स होते हैं, शरीर की कोशिकाओं के ब्लॉक्स बनाने का कार्य करते हैं। सिर्फ इतना ही नहीं इन्हीं से आपके बच्चे की कोशिकाओं के भी ब्लॉक्स का निर्माण होता है। इसीलिए यह बेहद जरूरी होता है कि प्रेगनेंसी के दौरान, महिला पूरी प्रेगनेंसी के दौरान, प्रोटीन का पर्याप्त मात्रा में सेवन करे। साथ ही प्रोटीन सेवन की मात्रा, दूसरी से तीसरी तिमाही में बेहद जरूरी हो जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस दौरान, बच्चे का विकास सबसे ज्यादा तेजी से होता है। इसी दौरान, आपके भी शरीर को प्रोटीन, जैसे स्तनों को प्रोटीन की बहुत अवश्यक्ता होती है। उदाहरण के तौर पर स्तनों के आकार में वृद्धि होना, और यही वृद्धि आगे जाकर स्तनपान में सहायक होती है।

प्रेग्नेंट वुमन को प्रत्येक दिन लगभग 70 ग्राम प्रोटीन की जरूरत होती है।

प्रोटीन के स्रोत

बीन्स प्रोटीन के लिए सबसे अच्छे स्रोत हैं। इनमें लीन मीट, पोल्ट्री, मछली शेल फिश, अंडे, दूध, मक्खन, टोफ़ू और दही। वहीं एनीमल प्रोटीन (पशुओं से मिलने वाले प्रोटीन), अपने आप में सम्पूर्ण होता है। उसमें सभी नौ एमिनो एसिड तत्व मौजूद होते हैं, जो बाकी स्रोतों में नहीं होते। यदि आप दिन भर में, अलग-अलग प्रकार -पदार्थों का सेवन करते हैं, तो उनसे आपको अलग-अलग प्रकार के एमिनो एसिड्स, जिनकी आपको आवश्यक्ता होती है मिल जाते हैं।

दिन में कम से कम, दो से तीन प्रोटीन-सर्विंग लेने से आपकी प्रोटीन की अवश्यक्ता पूरी हो जाती है। यदि आप पूरी प्रेगनेंसी के दौरान, पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन लेती हैं, तो आपका बेबी निसंदेह हेल्दी होता है।

कुछ ऐसे प्रोटीन जो प्रेग्नेंट वुमन के लिए फायदेमंद होते हैं।

डेयरी (दूध और दूध से बनी चीजें)

1/2 कप पनीर: 14g

1/2 कप रिकोटा चीज़: 14g

150 g कम कैलोरी वाली दही (योगर्ट): 9 to 12 g

30 g कम कैलोरी वाला दूध: 8 g

30 g मोजारेला चीज़: 7 g

30 g  चेडर चीज़: 7 g

1 एक अंडा: 6 g

सेम, नट, फलियां

1/2 कप टोफ़ू: 20 g

1 कप  पकी हुई दाल: 18 g

1 कप  काले सेम: 15 g

1 कप  राजमा: 13 g

1 कप  चना: 12 g

2 बड़े चम्मच मूंगफली का मक्खन: 8 g

30 g सूखी भुनी हुई मूँगफली: 7 g

1 कप सोय मिल्क: 6 g

मांस, अंडा और मछली

1/2 भुना हुआ चिकन हार्ट: 27 g

90 g सालमन: 23 g

1 बीफ़ गोमांस हैमबर्गर पैटी: 21g

सावधानियां- मांशाहारी महिलाओं के लिए, नॉनवेज को लेकर खान-पान में थोड़ी सतर्कता बरतना भी जरूरी होता है। खासकर जो महिलाएं मछली का सेवन भी करती हों। क्योंकि हर एक मछली  प्रेगनेंसी के दौरान सुरक्षित नाह होती। कुछ मछलियां जैसे, शार्क, स्वोर्डफ़िश, मैकेरल और टाइलेफिश, इस दौरान नहीं खानी चाहिए। क्योंकि इनमें, मिथाइल मर्करी तत्व होता है। यह एक ऐसी धातु है, जो आपके बच्चे के मस्तिष्क के लिए बहुत घातक हो सकता है।

 

loader