प्रेगनेंसी के दौरान योनि संक्रमण का खतरा

महिलाओं में योनि संक्रमण एक आम बात है, लेकिन गर्भावस्था के दौरान इस तरह की समस्या खतरनाक हो सकती है। क्योंकि, यह संक्रमण आपके बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है। हालांकि, गर्भावस्‍था के दौरान योनि में ग्‍लाइकोजन नामक ग्लूकोज़ की मात्रा बढ़ने के कारण कैनडीडा अल्बिकन्स नामक कवक का विकास होता है।

सामान्यतः खमीर संक्रमण के कारण, योनि में खुजली और जलन तो होती ही है लेकिन कभी-कभी अंतरंग संबंध बनाते समय दर्द भी हो सकता है। इनके अलावा इस प्रकार के संक्रमण में सफ़ेद गाढ़ा स्त्राव भी होता है इस तरह के संक्रमण ज्यादातर मासिक धर्म आने से एक हफ्ता पहले नजर आते हैं।

ऐसे में, इसे समय से पहले उपचार किया जाना चाहिए ताकि बच्चे को किसी प्रकार की कोई समस्या न हो।  हालाँकि, कुछ उपचार ऐसे भी हैं, जिसका उपचार बिना डॉक्टर की सलाह के भी किया जा सकता है, क्योंकि कुछ वेजाइनल क्रीम बाजार में उपलब्ध हैं, जिसके जरिए संक्रमण को रोका जा सकता है। लेकिन, इसका प्रयोग तभी किया जाना चहिये जब आप गर्भवती न हों। क्योंकि, गर्भावस्था के दौरान इसका प्रयोग बच्चे के लिए खतरा पैदा कर सकता है।

आमतौर पर यह महिलाओं में निम्न कारणों से उत्पन्न होता है, जो निम्न हैं-

  • कभी-कभी महिलाओं में खमीर संक्रमण का कारण बहुत अधिक मात्रा में एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग करना होता है।

  • अगर किसी महिला में उसकी प्रतिरक्षा प्रणाली पहले से ही ख़राब है तो यह खमीर संक्रमण को पैदा करता है।

  • अत्यधिक मोटा होना भी खमीर संक्रमण का एक कारण हो सकता है।

  • डायबिटीज से पीड़ित महिला में खमीर संक्रमण के होने का खतरा होता है।

मॉर्डर्न मोना- मदर लाइफस्टाइल! एक दैनिक कॉलम, जहाँ महिलाओं से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है।  जैसे- स्वास्थ्य, फैशन, फिटनेस, बच्चों का रख-रखाव, मनोरंजन, सेक्स आदि की जानकारी के लिए आप अपने सवाल इस ईमेल https://zenparent.in/communityपर भेज सकते हैं।

loader