प्रेग्नेंसी के दौरान सेक्स, कितना सुरक्षित?

महिला के एक बार प्रेग्नेंट होने के बाद, पति-पत्नी के मन में यह सवाल उठने लगता है कि उन्हें इस  दौरान, अंतरंग संबंध बनाने चाहिए या नहीं। क्योंकि यह मामला उनके बच्चे का होता है। वहीं दूसरी और डॉक्टर भी इस दौरान, कुछ समय के लिए अंतरंग संबंधों से बचने की सलाह देते हैं। ऐसा इसलिए नहीं क्योंकि इस दौरान, सेक्स सेफ नहीं है, बल्कि इसलिए क्योंकि यदि महिला को कोई समस्या हो और उसे मिसकैरेज होने का डर हो तो ऐसा करना नुक्सानदायक हो सकता है।

यदि महिला पूरी तरह से स्वस्थ है और उसे किसी प्रकार का कोई ख़तरा नहीं है, तो वह बिना संकोच के संबंध बना सकती है, लेकिन वह महिलाएं जो नीचे दी गई समस्याओं से जूझ रहीं हों, उन्हें संबंध नहीं बनाने चाहिए क्योंकि ऐसा करने से उनके मिसकैरेज की आशंका बढ़ जाती है।

परिस्थितयां, जिनमें नहीं बनाने चाहिए अंतरंग संबंध-

  • यदि आप को गर्भपात का खतरा हो, या पहले गर्भपात हो चुका हो,
  • यदि योनि से रक्तस्राव या स्पोर्टिंग की समस्या हो रही हो,
  • पेट में बिना किसी कारण के ऐंठन या दर्द हो रहा हो,
  • यदि गर्भाशय ग्रीवा की समस्या रही हो,
  • यदि आपके गर्भ में दो या उससे अधिक बच्चे पल रहे हों,
  • यदि आपका प्लेसेंटा गर्भाशय के बहुत नीचे आ गया हो।

क्या प्रेग्नेंसी के बाद सेक्स में रहेगी पहले जैसी बात?

हर महिला का स्वास्थ्य अलग होता है। यह उसके अपने स्वास्थ्य और इच्छा पर निर्भर करता है कि महिला अंतरंग संबंधों के दौरान, सहज है या नहीं। हो सकता है कि उसे इस दौरान, पहले से ज्यादा अच्छा महसूस हो। या फिर हो सकता है कि उसे परेशानी हो। जहाँ तक पति का सवाल है, तो कई महिलाओं के पार्टनर ऐसे भी होते हैं, जिन्हें पहले के मुकाबले प्रेग्नेंट महिला की बॉडी ज्यादा आकर्षित करती है।

प्रेग्नेंसी के दौरान, वह महिलाएं जिन्हें अंतरंग संबंधों से परेशानी होती है, इस बात को हल्के में न लें। वह लव मेकिंग को लेकर डॉक्टर से बात जरूर करें। कई बार, सेक्स के बाद महिलाओं को पेट में तेज दर्द, ऐंठन या अन्य परेशानियां भी हो सकती हैं। इस तरह की स्थितियों में अपने डॉक्टर से बात जरूर करें। वहीं प्रेग्नेंसी के दौरान, कुछ महिलाओं को ब्रैस्ट में बहुत कोमलता और दर्द महसूस होता है। यहाँ तक कि हल्की छुअन से भी ब्रैस्ट में दर्द होने लगता है, ऐसे में महिलाएं अपने डॉक्टर से बात जरूर करें। एक और चीज देखी जाती है, कि जिन महिलाओं को मॉर्निंग सिकनेस की समस्या होती है, उन्हें भी इस दौरान, सेक्स में रूचि नहीं रहती।

क्या सेक्स से बच्चे को हो सकता है नुक्सान?

नहीं, प्रेग्नेंसी के दौरान, अंतरंग संबंध बनाने से बच्चे को कोई नुक्सान नहीं होता। महिला के गर्भ में, बच्चा एकदम सुरक्षित होता है। वह एमनियोटिक तरल पदार्थ की थैली के अंदर सुरक्षात्मक रूप से लिपटा होता है। साथ ही, गर्भाशय ग्रीवा (सर्विक्स) भी श्लेष्मा अवरोधक (म्यूकस प्लग) से बंद होती है। यह ब्लॉकेज बच्चे तक संक्रमण पहुंचने से भी रोकती है।   

बच्चे की सुरक्षा को लेकर एक और जो सवाल मन में होता है, कि कहीं सेक्स के दौरान, आपके पार्टनर के द्वारा तो गर्भस्थ शिशु को छुआ नहीं जाएगा। जैसा कि हमने ऊपर जिक्र किया है, कि बच्चा महिला के गर्भ में सुरक्षित होता है, तो ऐसा कुछ नहीं होता। साथ ही ओगाज़्म के दौरान, गर्भाशय में होने वाले संकुचन से भी बच्चे को कोई नुक्सान नहीं होता और यह संकुचन भी लेबर कॉंट्रैकशन से अलग होता है। साथ ही आप अपने पार्टनर के साथ यह बात शेयर करें कि वह ज्यादा डीप सेक्स न करे।

 

loader