प्रेग्‍नेंसी के दौरान, ब्रैस्ट पेन में राहत के टिप्स

प्रेग्नेंसी के दौरान, हार्मोन में बदलाव के कारण ब्रेस्‍ट में दर्द होना एक सामान्य समस्या है। इस समय ब्रैस्ट, बहुत ज्यादा सेंसटिव हो जाते हैं। ब्रैस्ट में बदलाव भी प्रेग्नेंसी का प्रमुख लक्षण है। प्रेग्नेंसी के चौथे सप्ताह से लेकर 7वे सप्ताह के बीच में ब्रैस्ट में बदलाव आना शुरू हो जाता है और यह फर्स्ट ट्रिमस्टर से लेकर पूरी प्रेग्नेंसी के दौरान, हो सकती है। इस बदलाव का मुख्य कारण है, ब्रैस्ट के ऊतकों में बदलाव होना। प्रेग्नेंट होने के बाद, ब्रैस्ट में दूध बनाने वाले ऊतकों का निर्माण शुरू हो जाता है। इस दौरान आपको ब्रैस्ट में सूजन, दर्द जैसी समस्या होती है और जब कोलोस्ट्रम का निर्माण हो जाता है, तब संभव है कि आपको थोड़े दिनों के लिए इससे निजात मिल जाये। कोलोस्ट्रम बेबी का सबसे पहला फ़ूड है, जो उसे बहुत सी बिमारियों से बचाता है। कभी-कभी प्रेग्नेंसी के 38 सप्ताह के बाद, कोलोस्ट्रम निकलना शुरू हो जाता है।  

ब्रैस्ट में दर्द या सूजन होने के कारण

प्रेग्नेंट होने के बाद, शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन का स्तर बढ़ जाता है। जिसके कारण आपको ब्रैस्ट में बदलाव नज़र आते हैं। इसके अलावा ब्रैस्ट के ऊपर कुछ फैट बनने लगते हैं, जिससे उस जगह पर रक्त का बहाव बढ़ जाता है और आपको इस तरह के लक्षण नज़र आ सकते हैं।

प्रेग्नेंसी के दौरान, नज़र आने वाले अन्य बदलाव

निप्पल- ब्रैस्ट में दर्द और सूजन के अलावा, आपको निप्पल में दर्द और झुनझुनाहट महसूस हो सकती है।

एरियोला- आप देख सकती हैं कि निप्पल के चारों तरफ, एरियोला वाला भाग ज्यादा डार्क, स्पॉटेड और बड़ा हो गया है।

गुड न्यूज़  प्रेग्नेंट होते की आपके ब्रैस्ट में बदलाव आना शुरू हो जाता है, लेकिन फर्स्ट ट्रिमस्टर के बाद आपको ब्रैस्ट में होने वाली समस्याओं से निजात मिल जाती है। अगर आपको ब्रैस्ट के आकर में बढ़ने को लेकर कोई चिंता है तो आपके लिए अच्छी बात यह है कि डिलीवरी के कुछ महीनों के बाद, आपका ब्रैस्ट दोबारा से सामान्य आकर का हो जाता है। 

ब्रैस्ट में होने वाले दर्द को कम करने के उपाए

ध्यान रहें कि आपके पार्टर को इस बारे में जानकारी हो ताकि जब कभी वह आपको प्यार करें तो ध्यान रखें कि आपको ज्यादा दर्द न हो। अच्छी क्वॉलिटी के ब्रा का इस्तेमाल करें। अंडरवायर ब्रा का इस्तेमाल बिलकुल न करें। अगर संभव हो तो कॉटन के स्पोर्ट्स ब्रा का ही इस्तेमाल करें।

 

loader