प्रेगनेंसी के बाद वजन कम करने के लिए क्या करें ?

महिलाओं में प्रेगनेंसी के बाद वजन का बढ़ना बहुत ही आम बात है, लेकिन क्या आपने कभी यह सोचा है कि आख़िरकार इस समय क्यों आपका वजन बढ़ जाता है, और इसे कंट्रोल में कैसे किया जा सकता है। क्योंकि, कुछ महिलाओं को यह लगता है कि डाइटिंग करने से अपने बढे हुए वजन पर काबू पाया जा सकता है, जो कि गलत है। ऐसे में, निचे कुछ बातें बताई जा रही हैं जिसको ध्यान में रख कर आप अपने बढ़ते वजन को कंट्रोल कर सकती हैं।

वजन कम करने के लिए क्या करें ?

अगर आप सच में प्रेगनेंसी के बाद अपने वजन को काबू में करना चाहती हैं, तो इसके लिए आप को निम्न बातों का ध्यान रखना होगा, जैसे-

डाइटिंग करने से बचें

कुछ महिलाओं को यह लगता है कि डाइटिंग करने से मोटापे से मुक्ति पाई जा सकती है। लेकिन ऐसा नहीं है, इसलिए आप सुबह के ब्रेकफास्ट को भूलकर भी स्किप न करें। क्योंकि, इस से आप काफी कमजोर हो सकती है, ऐसा इसलिए क्योंकि इस समय आप अपने बच्चे को स्तनपान कराती हैं जिससे कि आपको काफी एनर्जी की खपत होती है। इतना है, यदि आप सुबह का नाश्ता स्किप करती हैं तो इससे आपका दूध बनना कम हो सकता है, जो आपके बच्चे के विकास में बाधा भी पैदा कर सकता है।

अनहेल्‍दी खाने से बचें

अगर आप सच में दुबली होना चाहती हैं तो इसके लिए आप अपने उचित खान-पान का ध्यान रखें। क्योंकि, एक हेल्‍दी भोजन आपको पहले वाले आकार को लाने में मदद कर सकता है। आमतौर पर, स्तनपान कराने वाली महिलाओं को बार-बार भूख लगती है, ऐसे में इस भूख को संतुष्ट करने के लिए आपको अनहेल्‍दी नाश्ते का सेवन नहीं करना चाहिए। इससे आपका वजन कम होने के बजाए बढ़ सकता है।

एक्सरसाइज करें

वजन कम करने के लिए आसान योग और हल्के व्यायाम करना लाभदायक होता है। प्रसव के दो से तीन महीने के बाद, आपका शरीर कुछ कठिन अभ्यास करने के लिए तैयार होता है। वास्तव में, बच्चे के जन्म के बाद बढ़े वजन से छुटकारा पाने के लिए नियमित रूप से शारीरिक व्यायाम करना सबसे प्रभावी तरीका है।

गर्भावस्था में वजन बढ़ने के मुख्य कारण

एस्ट्रोजन हार्मोन का असंतुलन

एस्ट्रोजन फीमेल सेक्स हार्मोन होता है, जो गर्भावस्था के बाद महिलाओं में बढ़ते घटते रहता है, जिसके कारण इसके स्तर में गिरावट आती है। इतना ही नहीं, एस्ट्रोजन का एक और स्रोत है जो कैलोरी को फैट में बदल देता है, जो मोटापे को बढ़ाने का काम करता है।

बच्चे को उचित मात्रा में स्तनपान न कराना

कुछ महिलाएं अपने बॉडी को लेकर काफी सजग होती हैं, और उन्हें लगता है कि बच्चे को स्तनपान कराने से उनका स्तन ढ़ीला पड़ सकता है। लेकिन, उन्हें यह पता नहीं होता है कि स्तनपान अच्छे से न करा पाने के कारण उनके मोटापे में वृद्धि हो सकती है। ऐसे में, आप अपने बच्चे को जितना अधिक स्‍तनपान करवाएंगी, आपकी कैलोरी उतनी ही ज्‍यादा बर्न होगी। चर्बी के साथ गर्भावस्था के दौरान कई माताओं में लिपिड और ट्राइग्लिसराइड के स्तर में भी वृद्धि होती है। स्तनपान इन परिवर्तनों के पीछे एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

शरीर में पानी की कमी

यह बिल्कुल सच है कि शिशु के पैदा होते ही आपके पास बिल्कुल भी समय नहीं रहता है कि आप अपने ऊपर ध्यान दे सकें। लेकिन, कुछ चीज़ें हैं जिस का ध्यान रखना बेहद जरूरी है खास कर अपने खान-पान का। क्योंकि, यह आपके मोटापे का सबसे बड़ा कारण होता है। खासकर अगर आपके शरीर में पानी की कमी होती है तब वह आपके मोटापे को बढ़ा सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि, शरीर को हाइड्रेटेड रखने के लिए पानी की पर्याप्त मात्रा लेनी चाहिए। पानी शरीर में गर्मी लाता है जो कि कैलोरी को जलाने और आपके मेटाबोलिज्म को बढ़ाने में मदद करती है।

प्रोजेस्टेरोन हार्मोन की कमी

गर्भावस्था के बाद शरीर में प्रोजेस्टेरोन के स्तर में कमी आ जाती है। इस हार्मोन के स्तर में कमी वास्तव में वजन बढ़ाने का कारण नहीं होती है। बल्कि यह महिलाओं में वाटर रिटेंशन और सूजन का कारण बनती है जिससे आपका शरीर फूला हुआ और भारी लगता है।

तनाव है सबसे बड़ा कारण

मोटापे का सबसे बड़ा कारण तनाव लेना है, क्योंकि बच्चे के जन्म के बाद अक्सर महिलाएं तनाव से ग्रसित हो जाती हैं। इसलिए ज्यादा तनाव से स्ट्रेस हार्मोन स्त्रावित होता है जिससे कि मोटापा बढ़ता है। तनाव से आपके रक्त में कोर्टिसोल की मात्रा में वृद्धि होती है, यह एक हार्मोन है जो आपके वजन को बढ़ाने का काम करता है। साथ ही, कोर्टिसोल के साथ एड्रेनालाईन हार्मोन के स्तर में वृद्धि से थकान, उदास, चिड़चिड़ापन और वजन बढ़ने लगता है

नींद की कमी

शिशु के जन्म के बाद माँ का सोना बहुत कम हो जाता है, क्योंकि बच्चे के सोने और जागने का समय बिल्कुल अलग होता है। ऐसे में, कम सोने से महिलाएं मोटी हो जाती हैं, जो प्रेग्नेंसी के बाद महिलाओं के मोटे होने का मुख्य कारण है। नींद आपके वजन घटाने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए महत्वपूर्ण है। पर्याप्त नींद ना लेना आपके मेटाबोलिज्म को प्रभावित करता है और अपने वजन घटाने की प्रक्रिया को धीमा कर सकता है।

आपकी बिंदु- एक दैनिक कॉलम है, जहाँ आपको हर मर्ज़ की दवा मिल सकती है। इसके लिए आप घरेलू नुस्खे, हेल्दी फ़ूड से लेकर तमाम सभी चीज़ों की जानकारियों और अपने सवाल इस ईमेल aapkihindieditor@zenparent.in पर भेज सकते हैं।

Feature Image Source

loader