प्रेगनेंसी का 7 वां हफ्ता

सातवें हफ्ते में, उसके हाथों और पैरों के स्थान पर छोटे-छोटे बड्स, जो छठे हफ्ते में निकल आए थे, का आगे विकास होना शुरू होता है। वह धीरे-धीरे हाथों और पैरों में बदलने शुरू होते हैं। शरीर के दूसरे अंग जैसे: फेंफड़े, हृदय, आंतें, मस्तिष्क, स्पाइनल कोर्ड, मुँह, आँखें और अपनेडिक्स भी धीरे-धीरे विकसित होते रहते हैं।  इस हफ्ते बच्चे का आकार, ब्लू बेरी जितना हो जाता है।

इतना ही नहीं, इस हफ्ते बच्चे की उँगलियाँ और अंगूठे भी निकलना शुरू हो जाते हैं। बच्चे के शरीर में बोन मैरो का निर्माण होने तक, लिवर उसका कार्य करता है और वह रक्त कोशिकाओं का निर्माण करता है। बच्चे का अग्न्याशय, इंसुलिन के निर्माण के लिए तैयार होने लगता है। बच्चे के यकृत में पित्त नलिकाओं का निर्माण हो जाता है। बच्चे का मस्तिष्क धीरे-धीरे सक्रीय होने लगता है। गर्भनाल का विकास होने लगता है। बच्चे का हृदय दो भागों लेफ्ट और राइट में बंटने लगता है। हृदय रक्त को पंप करने के लिए मजबूत होने लगता है। कान, पलकें, रेटिना में वर्णक और आइरिस का बनना शुरू होने लगता है। इस दौरान बच्चे की आँखें एक दूसरे से बहुत दूर होती हैं, लेकिन धीरे-धीरे नजदीक आती रहती हैं।

बच्चे के हाथों का विकास पैरों के मुकाबले तेज़ी से होता है। यहाँ तक कि उसकी उँगलियाँ भी हल्की सी निकलने लगती हैं। इस हफ्ते में बच्चा थोड़ा बहुत हिलने-डुलने भी लगता है लेकिन यह इतना धीमा होता है कि आपको अहसास नहीं होता।

loader