प्रसव के समय दिए जाने वाले एपिड्युरल इंजेक्शन के दुष्प्रभाव

कितना घातक है एपिड्युरल इंजेक्शन ? | Kitna ghatak hai epidural injection?

एपिड्युरल इंजेक्शन प्रसव के समय दिया जाने वाला एक तरह का एनेस्थीसिया होता है। जिससे कि आपके शरीर का निचला हिस्सा सुन्न हो जाता है। हालाँकि, डॉक्टर का मानना है कि सामान्य एनेस्थीसिया की तुलना में यह माँ और शिशु के लिए अधिक सुरक्षित होता है। लेकिन, एपिड्युरल या रीढ़ में लगाए गए एनेस्थीसिया का दुष्प्रभाव हो सकता है। जिसमें बेहोशी, सांस लेने में दिक्कत और उल्टी की समस्या हो सकती है।

कैसे दिया जाता है एपिड्युरल इंजेक्शन

एपिड्युरल इंजेक्शन पीठ के निचले हिस्से और रीढ़ में उस जगह पर एक खोखली सुई अंदर डाली जाती है, एपिड्यूरल स्पेस कहा जाता है। इसके बाद एक पतली ट्यूब या कैथेटर इस सुई के जरिये अंदर घुसाई जाती है। जब कैथेटर सही जगह लग जाता है, सुई को बाहर निकाल लिया जाता है।

एपिड्यूरल किस तरह काम करता है?

एपिड्यूरल स्थानीय एनेस्टेटिक की तरह काम करता है। एनेस्थेटिक अस्थाई तौर पर उन नसों को अवरुद्ध कर देता है, जो कि आपके गर्भाशय और ग्रीवा से दर्द के संकेत आपके मस्तिष्क तक पहुंचाती हैं।

एपिड्यूरल के दुष्प्रभाव

  • इससे आपको बेहोशी, सांस लेने में दिक्कत जैसी समस्या हो सकती है। इंजेक्शन से आपको ऑक्सीजन मास्क लगाने की जरूरत भी हो सकती है। हो सकता है आपको उल्टी की शिकायत भी हो।  

  • इससे आपको ठंड कंपकपी लग सकती है।

  • एपिड्यूरल लगाते समय दर्द हो सकता है, इसलिए इस दौरान आपका स्थिर रहना बहुत जरुरी होता है, ताकि एपिड्यूरल सही जगह पर लग सके।

  • आपकी टांगों में कमजोरी या भारीपन की समस्या रह सकती है।

  • रक्तचाप कम हो जाने पर ड्रिप लगाने की ज़रूरत पड़ सकती है। हर खुराक के बाद आपके बच्चे के दिल की धड़कन की निगरानी करनी पड़ेगी।

  • यह प्रसव को लंबा खींच सकता है।

  • यूरिन पास करने में परेशानी हो सकती है।

मॉर्डर्न मोना- मदर लाइफस्टाइल! एक दैनिक कॉलम, जहाँ महिलाओं से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है।  जैसे- स्वास्थ्य, फैशन, फिटनेस, बच्चों का रख-रखाव, मनोरंजन, सेक्स आदि की जानकारी के लिए आप अपने सवाल इस ईमेल https://zenparent.in/community पर भेज सकते हैं।

loader