नॉर्मल या सी सेक्शन कौन से बच्चे होते हैं ज्यादा हेल्दी ?

इसमें दो राय नहीं है कि सामान्य प्रसव से जन्मे बच्चे ज्यादा हेल्दी होते हैं सी सेक्शन की तुलना में। क्योंकि, सी सेक्शन के जरिए पैदा हुए बच्चों की इम्युनिटी सिस्टम, मेटाबॉलिज्म और तंत्रिका संबंधी प्रणालियों के विकास पर नकारात्मक असर पड़ता है। हालाँकि, आजकल महिलाएं प्रसव के दर्द से उबरने के लिए सी सेक्शन का सहारा लेती हैं, जो कि आगे चलकर उनके लिए कठिनाईं उत्पन्न कर देती हैं। इसके अलावा, कई ऐसे कारण हैं, जिनके चलते सामान्य प्रसव को कभी-कभी सिजेरियन करना पडता है। लेकिन सिजेरियन की बढती संख्या यह बता रही है कि आज के समय में सिजेरियन डिलीवरी की संख्या कितनी तेज़ी से बढ़ी है जो माँ और बच्चे दोनों के लिए घातक है।

क्यों हेल्दी है सामान्य प्रसव ?

नॉर्मल डिलीवरी कई ऐसी खतरनाक बिमारियों से माँ और बच्‍चे को बचाता है। हालाँकि, एक शोध में यह बात सामने आई हैं कि प्रेग्‍नेंसी और डिलीवरी के दौरान पेट में माइक्रोबायोम वातावारण में गड़बड़ी पैदा कर विकसित होते बच्चे के शुरुआती माइक्रोबायोम को प्रभावित कर सकते हैं। जिसके कारण बच्चे को भविष्य में स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही अध्ययन में यह भी बताया गया है कि सी-सेक्शन प्रसव जैसी आधुनिक चिकित्सा पद्धतियां इन माइक्रोबायोम को प्रभावित करती हैं और बच्चों की प्रतिरक्षा, मेटाबॉलिज्म और तंत्रिका संबंधी प्रणालियों के विकास पर नकारात्मक असर डालती हैं। इतना ही नहीं, इसके कारण बच्चों में एलर्जी, दमा, मोटापा, और ऑटिजम जैसे तंत्रिका विकास संबंधी कई बीमारियां हो सकती हैं।

सी-सेक्शन से होने वाली परेशानियाँ

चूँकि सीजेरियन आॅपरेशन एक बड़ा आॅपरेशन होता है, इसके साथ हमेशा दर्द और असहजता बनी रहती है। हालाँकि, सामान्य तरीके से बच्चे को जन्म देना व सिजेरियन द्वारा प्रसव कराना दोनों ही अलग हैं। क्योंकि, सामान्य प्रसव के दौरान माँ को बहुत अधिक दर्द  सामना करना पड़ता है, वहीं सिजेरियन के दौरान भले ही शिशु का जन्म बिना तकलीफ के हुआ हो, लेकिन बाद में यह तकलीफ सामान्य प्रसव की तुलना में अधिक होती है। क्योंकि, सिजेरियन द्वारा शिशु को जन्म देने के बाद महिलाएं एक बीमार व रोगी की तरह रहती है, स्वस्थ सामान्य इंसान की तरह नहीं। इतना ही नहीं, ऑपरेशन के बाद आपका चलना-फिरना तो दूर हिलना-डुलना भी मुश्किल हो जाता है। यहां तक कि खांसने से लेकर करवट बदलने तक में परेशानी होती है।

प्रसव के बाद बच्चे से दूर

सामान्य प्रसव के बाद तुरंत आपको बच्चे को दिया जाता है, जबकि सी सेक्शन के बाद आपको अपने बच्चे से चौबीस घंटे दूर रहना पड़ता है। इतना ही नहीं आप अपने बच्चे को अच्छे से स्तनपान कराने में भी सक्षम नहीं होती हैं।

अधिक रक्तस्राव

सामान्य प्रसव की अपेक्षा सिजेरियन डिलीवरी में अधिक ब्लड लॉस होता है। कभी-कभी ऑपरेशन के दौरान हेवी ब्लीडिंग के कारण खून तक चढाना पड जाता है। जो महिलाओं के लिए काफी तकलीफदेह होती है।

ठीक होने में समय

सामान्य प्रसव के दौरान महिलाएं 1 महीने के अंदर ठीक हो जाती हैं, जबकि सिजेरियन में लगभग 2 से 3 महीने का समय लग जाता है। हालाँकि, इस दौरान डॉक्टर एक्सरसाइज करने की सलाह नहीं देते हैं।

संक्रमण का खतरा

हालाँकि, सामन्य प्रसव के बाद भी माँ और बच्चे को इन्फेक्शन से दूर रहना पड़ता है। लेकिन, सिजेरियन के बाद माँ और बच्चे को विशेष देखभाल की जरूरत होती है। क्योंकि, ऑपरेशन के बाद हाइजीन का पूरा ध्यान रखना पडता है। इसके साथ अति संवेदनशील होने के कारण ईचिंग और एलर्जी के प्रति भी सजग रहना पडता है।

आप सिजेरियन प्रसव के संभावना को कम कर सकती हैं

हालंकि, कुछ गंभीर मामलों में डॉक्टर सी सेक्शन की सलाह देते हैं, ताकि माँ और बच्चे के जान को कोई खतरा न हो। इसलिए सभी सीजेरियन ऑपरेशन टाले नहीं जा सकते। लेकिन, आप कुछ उपायों को अपना कर सीजेरियन ऑपरेशन की संभावना को कम कर सकती हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं-

  • अच्छा आहार, व्यायाम और आराम करके अपनी गर्भावस्था को स्वस्थ रखने का प्रयास करें। यह सब आपको प्रसव पीड़ा शुरु होने पर अच्छी स्थिति में रखेगा।

  • पता लगाएं कि कौन सी डॉक्टर या स्थानीय अस्पताल में कम से कम सीजेरियन करने के लिए जाने जाते हैं। ऐसे दोस्त, कार्यस्थल के साथी या रिश्तेदार, जिनके घर हाल ही में शिशु का जन्म हुआ है, वे लोग आपकी इस बारे में मदद कर सकते हैं।

  • प्रसव के दौरान जितनी देर तक हो सके उतनी देर तक सीधी या खड़ी रहने का प्रयास करें। चलने या खड़े रहने से आपके प्रसव में तेजी आ सकती है। इस तरह संकुचन अधिक मजबूत, लंबे और अधिक प्रभावशाली हो सकते हैं। यहां तक कि लेटने की बजाय बैठे रहने से प्रसव की अवधि में काफी हद तक कमी आ सकती है।

  • प्रसव के दौरान तरल पदार्थ पीएं। इससे आपको निर्जलीकरण नहीं होगा और आपकी ऊर्जा का स्तर भी ऊंचा रहेगा।

मॉर्डर्न मोना- मदर लाइफस्टाइल! एक दैनिक कॉलम, जहाँ महिलाओं से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है।  जैसे- स्वास्थ्य, फैशन, फिटनेस, बच्चों का रख-रखाव, मनोरंजन, सेक्स आदि की जानकारी के लिए आप अपने सवाल इस ईमेल https://zenparent.in/communityपर भेज सकते हैं।

loader