नाईट शिफ्ट और प्रेगनेंसी, कहीं नुक्सानदायक तो नहीं?

प्रेगनेंसी में जॉब को जारी रखना, नुक्सानदायक नहीं है, फिर चाहे शिफ्ट नाईट हो या डे। बस आपको जरूरत है यह जानने कि आपको अपनी जॉब के अनुसार अपनी देखभाल कैसे करनी है। नाईट शिफ्ट है, इसका मतलब यह नहीं कि आपको दिन में पूरे सात से आठ घंटे की नींद पूरी नहीं करनी है। जॉब में भी बीच-बीच में, थोड़ी-थोड़ी देर पर टहलिए, स्नैक्स साथ रखिये और  भरपूर आराम कीजिये।  

नींद और स्वस्थ आहार  

वीकेंड्स पर, रात में पूरी नींद लें। हो सकता है, आपको दिन में, सोने की आदत हो, तो वीकेंड्स पर, दिन में थोड़ी देर आराम जरूर करें, लेकिन रात को पूरी नींद जरूर लें। यदि आपको ठीक से नींद नहीं आ रही है, तो इसे नजरअंदाज न करें। एक बार अपनी गाइनोकोलॉजिस्ट से बात जरूर करें।    

व्यायाम करें-

प्रेगनेंसी में, अच्छे खाने और भरपूर नींद के साथ-साथ, व्यायाम भी बहुत जरुरी है। ऐसा नहीं है कि आपको बहुत रफ़-एंड-टफ़ एक्सरसाइज करने की जरुरतहोती है, आप सिंपल एक्सरसाइज करें, टहलें, डॉक्टर के बताए अनुसार हल्की-फुल्की एक्सरसाइज करें। यहाँ तक कि प्रेगनेंट लेडीज के लिए, योग क्लास, एरोबिक्स और एक्सरसाइज क्लासेज भी चलती हैं। यह क्लासेज वीकेंड्स पर भी चलती हैं, तो अगर आप चाहे, तो इन्हें भी ज्वाइन कर सकती हैं। इसके अलावा आप काम के बीच में, थोड़ा ब्रेक लेकर, टहलें। यह आपके और आपके बेबी, दोनों के लिए अच्छा होगा।

आरामदायक और सही ढंग में रहें-

यदि आपको, काफी देर तक कंप्यूटर पर काम करना होता है, तो सबसे जरुरी है कि आप सही तरीकें से बैठे। बैठते समय, आपकी पीठ पर ज्यादा दबाव नहीं पड़ना चाहिए। जैसे-जैसे आपकी प्रेगनेंसी के दिन आगे बढ़ते हैं, आपको पीठ के पीछे, फर्म सीट और तकिए लगाने की जरुरत पड़ती है। यदि लम्बें समय तक, पैर लटकने से, आपके पैरों और पंजों में सूजन आ जाती है, तो पैरों के नीचे कुछ सपोर्ट रखें। इससे आपको आराम मिलेगा।  

तनाव से दूर रहें-

प्रेगनेंट लेडीज को जितना हो सकें तनाव से दूर रहना चाहिए। काम के बीच में, थोड़ी देर के लिए अपनी आँखें बंद करें और गहरी साँस लें, इससे तनाव दूर होता है। ऐसा करने से दर्द और थकान से भी राहत मिलती है।

प्रेगनेंसी में मेडिटेशन और रिलैक्सेशन टेक्निक्स बहुत लाभदायक होती है।

प्रेगनेंसी की शुरुआत से ही, ऊपर बताई गई चीजों का ध्यान रखें, विशेषकर अगर आप कामकाजी महिला हैं। आप अपने बॉस से भी इस बार चर्चा कर लें, ताकि वह आपकी शिफ्ट चेंज कर दें और वर्कलोड भी कम कर दें।

 

loader