मिथ: प्रेग्नेंसी की ख़बर सबके साथ शेयर करने से होता है अपशकुन

जब भी कोई लेडी प्रेग्नेंट होने की प्लैनिंग करती है और उसे जब अचानक से यह खुशखबरी मिल भी जाती है, तो उसके मन में सबसे पहले यही ख्याल आता है कि यह गुड़ न्यूज़ कब सबको बताए। हमारे देश में व्याप्त एक मिथ, कि प्रेगनेंसी की खबर पहले तीन महीनों तक सबको देने से अपशकुन होता है, उसे ऐसा करने से रोक लेता है।

महिलाएं न चाहते हुए भी, यह खबर दूसरों से छुपा कर रखती हैं। जबकि उसका मन यही कहता है कि वह छत पर जा कर, जोर-जोर से यह खबर सब को सुनाए। हमारे बड़े-बुजुरगों के अनुसार, प्रेगनेंसी के कम से कम 3 महीनों तक, यह खबर किसी को नहीं बताना चाहिए, नहीं तो कुछ गड़बड़ी भी हो सकती है। इन तीन महीनों के बाद, जब मिसकैरेज होने का खतरा टल जाए,  तो ही आप यह ख़बर सबको सुना सकती हैं। क्या यह बात सच है?

क्या आपको लगता है कि यह बात सच होगी? अरे! जब आप एकदम स्वस्थ हैं,  आपको कोई समस्या नहीं है, आप लगातार डॉक्टर से सम्पर्क में हैं, नियमित जाँच करा रही हैं और अपना सही ध्यान रख रहीं हैं, तो भला आपके साथ ऐसा क्यों होगा। इन बातों से घबराने के बजाय, अपनी सेहत का ख्याल रखिये और दूसरों से भी रखवाये। इन बातों से घबराने की जरूरत उन महिलाओं को जरूर होगी, जो सेहतमंद नहीं हैं। फिर भी इस बात को अपशकुन कहकर टालना सही नहीं है।

मिसकैरेज का कारण, कोई अपशकुन नहीं बल्कि, वह समस्याएं जैसे- कोई बिमारी, इन्फेक्शन या यूटरस में कोई समस्या होती है। इसके अलावा, यदि लेडी, स्मोक, ड्रिंक, या बिना डॉक्टर की सलाह के ड्रग्स लेती है, तो भी मिसकैरेज का खतरा हो सकता है। अक्सर, ज्यादा ऐज की लेडीज का मिसकैरेज होने की आशंका  ज्यादा होती है। आकड़े बताते हैं कि ऐसी प्रेग्नेंट लेडीज, जिनकी उम्र 20 वर्ष है, टोटल में से केवल 15 % ही ऐसी महिलाएं है, जिनका मिसकैरेज हुआ है। लेकिन 40 की उम्र के बाद,  प्रेगनेंट होने पर, मिसकैरेज होने की आशंकाएं दौगुनी हो जाती हैं। यदि आपकी प्रेगनेंसी एक हेल्दी प्रेगनेंसी है और आप यह न्यूज़, सभी के साथ शेयर करना चाहती हैं, तो तीन महीनों का वेट क्यों करना?    

कुछ मम्मी ऐसी होती है, जो यह न्यूज़ इसलिए भी किसी के साथ शेयर नहीं करना चाहती कि कहीं उनका मिसकैरेज हो गया तो वह सैड न्यूज़ कैसे सभी को बतायेंगी। तो लेडीज! बी पॉजेटिव। अपनी सेहत का ख्याल रखें और ये खुशखबरी सभी के साथ बिंदास शेयर करें।

आपके लिए यह जानना भी जरुरी है कि ख़ुशी बाँटने से बढ़ती है और प्रेग्नेंट महिला का खुश रहना बहुत जरूरी होता है। आप बिंदास जिससे चाहें अपनी यह ख़ुशी शेयर करें। तो बताइये किसे पहले देना चाहेंगी आप यह खबर?

 

loader