क्यूँ बढ़ता हैं प्रेगनेंसी में इतना ज्यादा वजन?

गर्भावस्था के दौरान, वजन का बढ़ना बहुत ही सामान्य होता है। गर्भवती महिला के शरीर में एक बच्चा पल रहा होता है और उसे अपनी माँ के शरीर से ही पोषक तत्व मिलते हैं। ऐसे में महिला को अपने बढ़ते हुए वजन की बिलकुल भी चिंता नहीं करनी चाहिए। जैसे-जैसे प्रेगनेंसी की अवधि बढ़ती जाएगी, वैसे-वैसे महिला के वजन में वृद्धि होती जाएगी। 9 महीने की प्रेगनेंसी में महिला के शरीर का वजन लगभग 10 से 11 किलो बढ़ जाता है। आखिरकार ये वजन इतना ज्यादा कैसे बाद जाता है, डालिये एक नजर:

  • जन्म के दौरान बेबी का वजन लगभग 2.8 से 3.3 किलो तक होता है।
  • जब प्रेगनेंसी प्रोग्रेस पर होती है तो गर्भ की मांसपेशियों की लेयर 0.9 किलो तक बाद जाती है।
  • गर्भनाल का वजन ही लगभग  0.5 किलो होता है।
  • ब्रैस्ट का वजन भी 0.4 किलो तक बढ़ जाता है।
  • ब्लड वॉल्यूम भी 1.2 किलो तक बढ़ जाता है।
  • शरीर में एमनीओटिक फ्लूएड और एक्स्ट्रा फ्लूइड्स की मात्रा में 2.6 किलो का इजाफ़ा हो जाता है।
  • साथ ही इस दौरान, अतिरिक्त खिलाई-पिलाई की वजह से भी वजन में वृद्धि हो जाती है।

यह वजन गर्भावस्था के अंतिम चरण के दौरान सबसे ज्यादा बढ़ जाता है और बाद में एक्सरसाइज आदि करने पर कम हो जाता है। गर्भवस्था के दौरान, डॉक्टर आपका बॉडी मास इंडेक्स भी नोट करते हैं। डिलीवरी के बाद वजन कम करने के लिए एकदम से डाइटिंग या एक्सरसाइज आदि न करने लगें।

loader