क्या प्रेगनेंसी में सुरक्षित है बस, ऑटो या बाइक से आना-जाना?

प्रेगनेंसी के दौरान, बाइक या ऑटोरिक्शा में सफर करना उन महिलाओं के लिए हानिकारक हो सकता है, जिन्हें डॉक्टर ने पहले से ही सतर्क रहने के लिए कहा हो और उसे किसी प्रकार की कोई समस्या हो। जिन महिलाओं को डॉक्टर  पूरी तरह से आराम करने की सलाह देते हैं, उन्हें इन साधनों से यात्रा नहीं करनी चाहिए। जो महिलाएं पूरी तरह से स्वस्थ हैं, उन्हें इनसे किसी तरह की कोई परेशानी नहीं आती।

साथ ही इस तरह का कोई प्रमाण भी नहीं है कि, प्रेग्नेंसी के दौरा,न बाइक या ऑटोरिक्शा से सफर करना शारीरिक रूप से खतरनाक हो सकता है। हालाँकि, कुछ डॉक्टर प्रेग्नेंसी के दूसरे ट्राइमेस्टर यानी कि 3 से 6 महीनों में डॉक्टर, प्रेग्नेंट लेडी को इस तरह से यात्रा करने और एक्सरसाइज करने में थोड़ी सावधानी बरतने की सलाह जरूर देते हैं।

 

आमतौर पर, गर्भवती महिलाओं को सफर के दौरान, इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए कि, वह जिस रास्ते से जा रही हैं, वहाँ अनियंत्रित ट्रैफिक और ऊबड़ सड़कें न हों। क्योंकि इस तरह की सड़के  हाई रिस्क प्रेग्नेंसी का कारण बन सकती हैं। इसके अलावा, टू और थ्री व्हीलर गाड़ियां प्रेगनेंट महिलाओं के लिए ज्यादा सुरक्षित नहीं मानी जाती क्योंकि उनमें, सीट बेल्ट या एयरबैग नहीं होते। यानी यदि किसी प्रकार की कोई दुर्घटना होती है, तो महिला के सुरक्षित रहने की संभावना ज्यादा हो।  

यदि आप प्रेगनेंट हैं और टू व्हीलर का प्रयोग कर रही हैं, तो नीचे दी गई सावधानियां जरूर बरतें-

  • हमेशा हेलमेट पहनें,
  • ट्रैफिक और ऊबड़ या टूटी-फूटी सड़कों से दूर रहें,
  • कोशिश करें कि कम से कम सड़क पर निकलें, यदि निकलें भी तो पीक आवर्स के दौरान सफर ना करें,
  • उन रास्तों का चुनाव करें जहाँ पास में हॉस्पिटल हो ताकि, किसी भी प्रकार की समस्या होने पर डॉक्टर से संपर्क किया जा सके,   
  • यदि आप अस्वस्थ या चक्कर जैसा महसूस कर रही हैं, तो भूल कर भी ड्राइव ना करें।
  • बारिश के दौरान टू व्हीलर का प्रयोग नहीं करें।  

 

क्योंकि प्रेग्नेंसी के दौरान, टू व्हीलर पर वजन को नियंत्रित करना मुश्किल हो सकता है, और ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि इस अवस्था में जॉइंट कम स्थिर होती हैं, जिससे गुरुत्वाकर्षण का केंद्र बदल जाता है।

 

ऐसे में, यदि आप अल्टरनेटिव ट्रांसपोर्ट (परिवहन के वैकल्पिक साधन) पर विचार कर रही हैं, तो आप निम्न बातों पर गौर कर सकती हैं-

  • कार या टैक्सी का प्रयोग करें, आप टैक्सी किसी के साथ शेयर भी कर सकती हैं।
  • खुद ड्राइव करने के बजाए, बस या मेट्रो का पता लगाएं
  • यदि,आपका ऑफिस घर के पास है तो हर दिन चलने की कोशिश करें।

यह छोटी-छोटी सावधानियां प्रेग्नेंट महिला और उसके बच्चे को बड़ी परेशानियों से बचा सकती हैं।

 

loader