क्या प्रेग्नेंसी में सुरक्षित है मैगी?

किसी भी महिला के जीवन में, गर्भावस्था का समय अति महत्वपूर्ण होता है। इस दौरान, उन्हें न सिर्फ अपने बल्कि, गर्भस्थ शिशु के स्वास्थ्य का भी ख्याल रखना पड़ता है। यह भी एक बहुत ही कॉमन सी बात होती है कि इस दौरान, उनको चटपटी, खट्टी और मिर्च-मशालेदार चीजें खाने का मन ज्यादा होता है। इन्हीं खाद्य पदार्थों में, कुछ महिलाओं को मैगी, नूडल्स या अन्य फ़ास्ट फ़ूड खाने का मन भी करता है, लेकिन यह खाद्य पदार्थ स्वास्थ्य के लिए अच्छे नहीं माने जाते, क्योंकि कुछ जाँचों के द्वारा, इन पदार्थों में एम.एस.जी और अन्य हानिकारक केमिकल्स होने की बात सामने आई है। इनमें, मोम होने की भी बात सामने आई है। सामान्य रूप से, यह कहा जा सकता है कि नूडल्स, मैगी आदि को कम मात्रा में ही खाया जा सकता है, वह भी कभी-कभी। ज्यादा मात्रा में, यह नुकसानदायक हो सकते हैं।

यह सही है कि नूडल्स तैयार करना आसान है। बस गर्म पानी में डाला और तैयार हो गया। यह भूखे पेट को राहत देने के काम भी आती है और स्वादिष्ट भी लगती है, लेकिन इनमें पोषक तत्व नहीं होते। फटाफट नूडल्स स्वस्थ और संतुलित आहार नहीं है। इनमें, स्टार्च और नमक के साथ-साथ बहुत से, हानिकारक मोनोसोडियम ग्लूटामेट (एम.एस.जी) जैसे तत्व होते हैं। नमक के ज्यादा सेवन से, हाइपरटेंशन भी हो सकती है। इनके ज्यादा प्रयोग से, शरीर में, विभिन्न पोषक तत्वों- विटामिन्स, मिनरल्स, फाइबर आदि की कमी हो जाती है। फिर भी यदि कभी-कभी नूडल्स या अन्य इस प्रकार के खाद्य पदार्थ खाने का मन करे तो निम्नलिखित टिप्स अपनाकर इसको कुछ पोषक बनाया जा सकता है-

  • नुडल्स के साथ, जो स्वादिष्ट बनाने वाले मशाले का पाउच दिया जाता है उसकी आधे से कम मात्रा का ही प्रयोग करें। ज्यादा अच्छा होगा यदि मसले का मिश्रण अपने हिसाब से और सही प्रकार से तैयार कर लें। उसमें, नमक की मात्रा भी कम कर दें।
  • उसमें, पूरी तरह से उबले अंडे, पकाया हुआ चिकन या सब्जियाँ जैसे- पालक,  सेम, मटर, गाजर, मशरूम, फूलगोभी, हरा प्याज, शिमला मिर्च, पत्ता गोभी आदि, पोषक तत्व युक्त खाद्य पदार्थ शामिल करके उसे स्वस्थ्य बना सकती हैं।

परन्तु, यहाँ यह विशेष ध्यान देने की बात है कि इस प्रकार के झटपट तैयार होने वाले या तीखे चटपटे खाद्य पदार्थ कभी-कभी ही खाये जाने चाहिए। उन्हें अपनी आदत का हिस्सा नहीं बनाया जाना चाहिए।

loader