क्या प्रेग्नेंसी में, पार्लर जाना है सुरक्षित?

प्रेगनेंसी में ब्यूटी ट्रीटमेंट लेना चाहिए या नहीं, यह हमेशा से ही बहस का विषय रहा है। कुछ लोगों का मानना है कि प्रेग्नेंसी में, ब्यूटी ट्रीटमेंट लेने से बेबी पर ख़राब प्रभाव पड़ता है। वहीं कुछ लोग इसे सिर्फ मनगढंत कहानी भी समझते हैं।  

चलिए इन दोनों पहलुओं पर विचार करते हैं-

मैनीक्योर और पेडीक्योर

अक्सर ऐसा देखा गया है कि प्रेग्नेंसी में, लेडीज के हाथ और पैरों के नाख़ून बहुत जल्दी बढ़ते हैं। ऐसा आपके शरीर में हो रहे बदलाव के कारण होता है। लेकिन यदि, आप मैनीक्योर/पेडीक्योर कराने का सोच रही हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि जो भी प्रोडक्ट प्रयोग किये जा रहें हैं वह प्रकर्ति हों।  

प्रेग्नेंसी में, मैनीक्योर/पेडीक्योर कराना बिलकुल सुरक्षित है। लेकिन आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा जैसे- जिन भी सामानों का प्रयोग हो रहा हो, वह केमिकल रहित होने चाहिए और जिस रूम में आप मैनीक्योर/पेडीक्योर करवा रही हैं, उसमें हवा आने-जाने की उचित व्यवस्था होनी चाहिए।  

बॉडी मसाज

इस समय, शरीर की मालिश करवाने से काफी आराम मिलता है। मालिश करवाना, आपके और बेबी, दोनों के लिए बिलकुल सेफ हैं। हालांकि, पहली तिमाही में मालिश करवाने से बचना चाहिए।

बेहतर है कि मालिश करवाने से पहले आप, मालिश करने वाली को यह जरूर बता दें कि आप प्रेग्नेंट हैं। बाजार में, कुछ विशेष प्रकार के टेबल आते हैं, जो विशेष कर प्रेग्नेंट वीमेन के लिए बनाए गए हो। इन टेबल पर आप पेट के बल भी लेट कर मालिश करवा सकती हैं। इससे आपके बेबी को कोई नुक्सान भी नहीं पहुंचता। बहुत से स्पा प्रेग्नेंट वीमेन को स्पेशल पैकेज भी देते हैं। इस तरह से आप कम पैसों में मसाज करवा सकती हैं। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि जिस भी स्पा से आप मालिश करवा रही हैं, वो प्रतिष्ठित होने चाहिए और उन्हें प्रेग्नेंट लेडी को मसाज करने की पूरी जानकारी होनी चाहिए।

टैनिंग

प्रेग्नेंसी में, टैनिंग से बचना चाहिए। इस कंडीशन में, लेडीज की स्किन काफी सेंसिटिव हो जाती है और अक्सर उन्हें, मुँहासे और रैशेस की प्रॉब्लम होने लगती है। इसके अलावा, मां को अधिक गर्मी वाली जगह पर नहीं जाना चाहिए, यह बेबी के लिए नुकसानदायक होता है। इसलिए आपको अधिक गर्मी और सीधे सूरज के संपर्क में आने से बचना चाहिए।  

अरोमाथेरेपी

शरीर को खुशबू वाले तेल की सहायता से रिलैक्स करने की प्रक्रिया को अरोमाथेरेपी कहा जाता है। प्रेग्नेंट लेडीज के लिए अरोमाथेरेपी नुकसानदायक होती है। कभी-कभी अरोमाथेरेपी में इस्तेमाल होने वाले तेल, आपकी स्किन को सूट नहीं करते। यह तेल त्वचा के अंदर जाकर आपके बेबी को भी नुक्सान पंहुचा सकते हैं।

हेयर कलर

बालों को कलर करने के लिए जो कलर प्रयोग होता है, उसमे बहुत से केमिकल होते हैं। अगर आपको बालों को कलर करना ही है तो अमोनिया-फ्री और पैरबीन-फ्री प्रोडक्ट्स का प्रयोग करें। बालों को कलर, किसी अच्छे सैलून और ट्रेंड ब्यूटीशियन से ही करवाए।

प्रेग्नेंसी के इस टाइम को पूरी तरह एन्जॉय करें और अपने आपको को पैमपर करें।

loader