क्या आपको पता है कि प्रेगनेंसी में रोने से आपके बेबी पर क्या असर पड़ता है ?

जब भी आप माँ बनने वाली होती हैं तब आपने सोचा है कि आख़िरकार घर के बड़े-बूढ़े क्यों आपको खुश रहने की सलाह देते हैं। इतना ही नहीं आपको अच्छे से खाने-पीने और आराम करने के लिए भी कहते हैं। हालाँकि, इसके पीछे एक बड़ी वजह है, और वह वजह क्या है उसका कारण आपको निचे बताया जा रहा है, जो निम्न हैं-

यदि आप एक स्ट्रेस मॉम हैं

कुछ पेरेंट्स ऐसे होते हैं जो कभी-कभार किसी कारणवश चिंता करते हैं, उनके बच्चे इससे प्रभावित नहीं होते हैं। लेकिन, जब आप लंबे समय तक चिंता और तनाव लेती हैं तब यह आपके बच्चे को प्रभावित कर सकता है। एक शोध में यह बात सामने आई है कि जो मां गर्भावस्था के दौरान अधिक टेंसन और चिंता करती हैं, उनमें कोलिकी बेबी के जन्म देने की संभावना बढ़ जाती है। कोलिकी बच्चे वह होते हैं जो हमेशा और अधिक रोते हैं। हालाँकि, यह समस्या अधिक तनाव लेने से होती है, और ऐसे में आपके बॉडी से एक हार्मोन रिलीज करता है।

यदि आप एक डिप्रेस्ड मॉम हैं

गर्भावस्था के दौरान और बाद में डिप्रेशन की समस्या बेहद आम बात है। हालाँकि, यदि आप प्रेगनेंसी के दौरान अवसाद की समस्या से ग्रसित होती हैं तब यह आपके बच्चे के विकास के लिए घातक है।

जब आप कभी-कभी दुखी होती हैं

इस तरह की समस्या प्रेगनेंसी में सामान्य है, खासकर मॉर्निंग सिकनेस, मिडनाइट क्रेविंग या फिर मूड स्विंग इस तरह के लक्षण आम तौर पर देखे जाते हैं जो कि सामान्य माना जाता है। साथ ही यह आपके बच्चे को भी प्रभावित नहीं करता है।

आपको क्या करना चाहिए ?

यदि आप बहुत उदास हैं, तनाव ले रही हैं या अवसाद से ग्रस्त हैं तो ऐसे एमन अपने फैमली से बात करें। या फिर अपने मूड में बदलाव के लिए आप एक अच्छा बाथ लें सकती हैं। या फिर अपने पसंद की मूवी या बाहर घूमने जा सकती हैं, जिससे कि आपको काफी आराम मिलेगा।

loader