कुछ यूं करें अपने आने वाले मेहमान की तैयारी

अधिकांश बच्चे गर्भावस्था के 37वें से 41वें हफ्ते के बीच जन्म लेते हैं, और यदि बच्चे इस बीच जन्म न ले तो चिंता होना सामान्य है। क्योंकि, इस समय प्रेगनेंट महिला को एनर्जी की बहुत ज्यादा जरूरत होती है। इस स्तर पर आने के बाद वह बेहद तंग होना शुरू हो जाती है और चाहती हैं कि जल्दी से जल्दी प्रसव हो जाए ताकि उसे उस स्थिति से छुटकारा मिल सके। अब जब आपने 8 महीने निकाल लिए हैं, तो भला इन बच्चे हुए दिनों में बेबी के आने का स्वागत करने के बजाय आप परेशान क्यों हो रही हैं।   

कुछ इस तरह से हो सकती है आपके नए मेहमान के आने की तैयारी-

  • यह जरूरी नहीं है कि आप अपने बच्चे  के लिए अलग से कमरा बनाएं, बल्कि अपने बच्चे के लिए एक अलग से आलमारी जरूर बनाएं।
  • घर के अलग-अलग हिस्सों की साफ-सफाई करें, जिससे कि आस-पास होने वाले संक्रमण जैसे- मच्छर, तिलचट्टे और अन्य कीड़ों को खत्म किया जा सके।  
  • फ्रीज़ और रसोई से पुरानी और अतिरिक्त चीज़ों को साफ कर लें, क्योंकि बच्चे होने के बाद आपको इन सब कामों के लिए समय नहीं मिलेगा।
  • बैक अप के तौर पर पहले से सिलेंडर की बुकिंग करा लें
  • अपने एयर कंडीशनर, पानी फिल्टर, आदि की सर्विसिंग करा लें
  • अपने सारे बिल को एडवांस में पे कर दें, ताकि प्रसव के समय या बाद में आपको किसी प्रकार की परेशानी न हो
  • समय से पहले, इन्सुरेंस के सारे प्रीमियम भर दें
  • कुछ दिनों के लिए अपने पास किसी काम करने वाले लोगों को बुला कर रखें, जिससे कि आपका काम आसान हो जाए। क्योंकि, बच्चे के आने के बाद आपको एक हैल्पिंग हैंड की जरूरत होगी।
  • यदि आपके एक बच्चे पहले से हैं, तो ऐसे में नए बच्चे के जन्म से पहले अपने बड़े बच्चे को उसके आने के बारे में जानकारी दें, साथ ही टॉयलेट ट्रेनिंग, सेपरेटेड बेड आदि जैसी चीज़ों के बारे में अवगत कराएं।
  • यदि आपके पास पालतू जानवर हैं, तो ऐसे में कुछ दिनों के लिए उसकी देखभाल करने के लिए किसी वयक्ति को रखें।
  • 37 वें हफ्ते शुरू होते ही, हॉस्पीटल जाने के लिए अपना बैग तैयार रखें क्योंकि, किसी भी वक़्त आपको लेबर पेन शुरू हो सकता है।
  • इसके अलावा जो सबसे जरूरी चीज़ें हैं वह यह है कि आप जितना हो सके आराम करें, क्योंकि प्रसव के समय आपको एनर्जी की खास जरूरत होगी।

loader