कुछ टिप्स अपनाकर जेस्टेशनल डायबिटीज को कहें बाय-बाय

प्रेगनेंसी के तीसरे ट्राइमेस्टर में, शुगर लेवल के बढ़ने के कारण, प्रेग्नेंट लेडी को जेस्टेशनल डायबिटीज  होता है।

क्यों होता है ऐसा?

गर्भावधि मधुमेह (जेस्टेशनल डायबिटीज) तब होती है, जब प्रेग्नेंसी के दौरान, आपके खून में शर्करा (ग्लूकोज) की मात्रा अधिक हो जाती है। प्रेगनेंसी में, आपके शरीर को अतिरिक्त इंसुलिन बनाना पड़ता  है, ताकि भ्रूण की जरूरतों और आपकी अपनी जरूरतों को पूरा किया जा सके। जब प्लेसेंटा के हार्मोन, इंसुलिन के प्रभाव को कम कर देते हैं, तो शरीर, इस अतिरिक्त इंसुलिन की मांग को पूरा नहीं कर पाता, और इस स्थिति में रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है और महिला जेस्टेशनल डायबिटीज की शिकार हो जाती है। ऐसे में, यह बहुत जरूरी है कि रक्त में ग्लूकोस की मात्रा को नियंत्रित किया जा सके, नहीं तो यह बेबी को भी प्रभावित कर सकता है। अक्सर प्रेग्नेंट लेडीज, जेस्टेशनल डायबिटीज की शिकार हो जाती हैं। यह इतना कॉमन है कि हर छह में से, एक महिला को जेस्टेशनल डायबिटीज हो जाता है। इसलिए, इसे नियंत्रण में रखना बहुत जरूरी है।

अच्छी बात यह है, कि आमतौर पर बेबी के जन्म के बाद, जेस्टेशनल डायबिटीज स्वयं ठीक हो जाती है। यह जिंदगी भर चलने वाली टाईप 1 और टाईप 2 मधुमेह से अलग होती है।  

कैसे आप जेस्टेशनल डायबिटीज को नियंत्रित कर सकती हैं?

जेस्टेशनल डायबिटीज को नियंत्रण में लाने के लिए या इसे बढ़ने से रोकने के लिए, कुछ सुझावों का पालन कर सकती हैं, यह निम्नलिखित हैं-

  • स्वस्थ आहार लें- ऐसे कार्बोहाइड्रेट्स को अपने आहार में शामिल करें, जो धीरे-धीरे शुगर निकलता हो जैसे- साबुत अनाज (भूरे चावल, चोकर, जई या रागी)। साथ ही, वसा युक्त मांस के बदले, कम वसा वाले प्रोटीन जैसे कि चिकन, मछली और दलहन (जैसे-राजमा) आदि का प्रयोग करें।
  • मीठे का सेवन कम करें-  आप अपने जूस या ड्रिंक में अतिरित्क शुगर न डालें। हमेशा कोशिश करें कि मीठे का प्रयोग कम से कम हो।  
  • व्यायाम करें-  प्रेगनेंसी के दौरान फिट और सक्रिय रहना भी महत्वपूर्ण माना जाता है। यह आपके ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित रखने में आपकी मदद करता है। ऐसे में इस दौरान,  कई तरह के हल्के व्यायाम जैसे योग, पिलाटिज़, टहलना, तैराकी आदि आप कर सकती हैं।
  • अपने वजन बढ़ने पर नियंत्रण रखें- अगर गर्भावस्था से पहले आपका वजन सही था, तो प्रेग्नेंसी के नौ महीनों में, आपका वजन 10.5 किलो से 11 किलो तक बढ़ सकता है।

loader