कुछ खास ढंग से करें गोदभराई के रस्म की तैयारी

गोद भराई गर्भावस्था के दौरान निभाई जाने वाली एक रीत है। इसमें अजन्मे शिशु का परिवार में स्वागत करने के साथ-साथ गर्भवती माँ को मातृत्व की ढेरों खुशियों का आशीर्वाद दिया जाता है। यह गर्भावस्था के सात महीने पूरे कर लेने पर यह समारोह आयोजित किया जाता है। सातवें माह के बाद यह माना जाता है कि अब शिशु और माँ एक सुरक्षित चरण में हैं। काफी परिवारों में यह कार्यक्रम गर्भावस्था के आठवें माह के अंत में आयोजित किया जाता है।

हालाँकि, आज के मॉडर्न ज़माने में इसकी तैयारी खुद गर्भवती माँ करती हैं, ऐसे में इसकी तैयारी करते समय इन बातों का जरूर ध्यान रखें, जो निम्न हैं-

  • समारोह से पहले पर्याप्त आराम करना बेहतर रहता है। इस दौरान काफी व्यस्तता हो सकती है, जिससे आप थकावट महसूस कर सकती हैं।

  • आप इस अवसर के लिए मौसम के अनुसार एक साड़ी, लंहगा, सलवार कमीज चुनना चाहेंगी। अधिक गर्मी के मौसम में भारी कढ़ाई वाले जरी या रेशम (सिल्क) के परिधानों में आप असुविधाजनक महसूस कर सकती हैं।

  • गोद भराई के लिए तैयार किए जाने वाला भोज काफी विस्तृत होता है। इसमें मिठाईयां और तले हुए चटपटे व्यंजन भी शामिल होते हैं। कोशिश करें कि अपने पसंदीदा व्यंजन थोड़ी मात्रा में ही खाएं। अगर आपका पेट भर गया हो, तो अतिरिक्त भोजन के लिए नम्रतापूर्वक मना कर दें।

  • यदि आप अपने मेहमानों के मनोरंजन के लिए कुछ करना चाहती हैं, तो इस अवसर पर उनके लिए मेंहदी लगाने वाले कुछ कलाकारों का प्रबंध कर सकती हैं। वे मेहमानों के हाथों में मेहंदी के टैटू या डिज़ाइन बना सकते हैं।

  • अपना शुक्रिया अदा करने के लिए आप महमानों को दुपट्टे, ओढ़नी, स्कार्फ, सुंदर चूड़ियाँ, सौंदर्य प्रसाधन, इत्र या सेंट की बोतल, कुमकुम टिक्का/बिंदी का सेट आदि वापसी उपहार के तौर पर दे सकती हैं।

  •  

loader