गर्भपात के 4 आसान लक्षण

किसी भी गर्भवती महिला के लिए सबसे असहनीय पल होता है गर्भपात। क्योंकि, यह किसी भी महिला के लिए सबसे दर्दनाक सच होता है। हालाँकि, ज्यादातर मिसकैरेज गर्भावस्था के शुरुआती तीन महीने के अंदर होता है। आमतौर पर, प्रारंभिक गर्भपात बहुत आम होता है क्योंकि, जब तक महिलाओं को अपने गर्भावस्था के बारे में पता चलता है उससे पहले ही गर्भपात हो जाता है। वहीं शुरुआती गर्भपातों की तुलना में बाद में गर्भपात होने की संभावना काफी कम होती है। ऐसा करीब दो प्रतिशत गर्भावस्था में ही होता है। बाद के गर्भपात का सहन करना काफी कठिन हो सकता है ।

ऐसे में हर महिला को यह जानना बेहद जरूरी है कि गर्भपात का मुख्य कारण क्या है, जो निचे दिए जा रहे हैं-

  • बच्चेदानी में दोष

  • भ्रूण का धीमा विकास

  • हार्मोनल समस्या

  • संक्रमण

  • स्वास्थ्य समस्या

  • अत्यधिक कैफीन का प्रयोग

  • एक से अधिक बार गर्भपात का होना

  • मां की अधिक उम्र

हालाँकि, इन सब के बाद महिलाओं को गर्भपात के लक्षण का पता होना चाहिए। ऐसे में, निचे गर्भपात के कुछ लक्षण बताए जा रहे हैं, जिसको हर महिला को ध्यान में रखना चाहिए, जो निम्न है-

ब्लीडिंग की समस्या

यह गर्भपात का पहला संकेत होता है, इस दौरान महिलाओं को योनि से खून के थक्के निकलने शुरू हो जाते हैं। शुरूआती गर्भावस्था में कई महिलाओं को गर्भपात का देर से पता चलता है। या फिर वह यह समझती हैं की उनकी माहवारी देर से आई है ।

पेट के निचले हिस्से में दर्द और ऐंठन

इस दौरान पेट के निचले हिस्से में पीरियड्स के समय होने वाला दर्द और ऐंठन के रूप में होता है।

स्तन का कठोर होना

यह भी गर्भपात का एक संकेत है, क्योंकि इस दौरान आपके ब्रैस्ट बहुत अधिक कठोर हो जाते हैं।

बुखार आना

कई बार गर्भवती महिला को गर्भपात के समय अधिक बुखार रहती है, ऐसे में इस तरह के लक्षण नजर आते ही तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

ऐसे में, महिलाओं को शुरूआती के कुछ महीने आराम से रहने की जरूरत होती है, ताकि इन खतरों से बचा जा सके।

मॉर्डर्न मोना- मदर लाइफस्टाइल! एक दैनिक कॉलम, जहाँ महिलाओं से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है।  जैसे- स्वास्थ्य, फैशन, फिटनेस, बच्चों का रख-रखाव, मनोरंजन, सेक्स आदि की जानकारी के लिए आप अपने सवाल इस ईमेल https://zenparent.in/community पर भेज सकते हैं।

loader