गर्भावस्था में गैस या क्रेम्प से होने वाले दर्द का पता लगाना हुआ आसान

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के शरीर में बहुत से बदलाव होते हैं, जिसमें एक पेट दर्द की समस्या भी शामिल है। जिससे कि महिलाओं को खासा परेशानी का सामना करना पड़ता है। हालाँकि, इन दिनों होने वाले दर्द को महिलाएं बखूबी नहीं समझ पाती हैं कि आखिरकार यह दर्द किस वजह से हो रहा है। ज्यादातर महिलाएं इस दर्द का कारण गैस को समझती हैं। लेकिन, प्रेगनेंसी में पेट दर्द की समस्या कई कारणों से हो सकती है जिनमें एक है क्रेम्प।

आमतौर पर, इस समय आपके गर्भ में पल रहे शिशु के कारण आपके गर्भ का आकार भी बड़ा होने लगता है, जिसके चलते अगल-बगल के अंग, आंत, मांस-पेशियों, लिगामेंट आदि पर भी भार व तनाव पड़ता है। जिसके कारण पेट में दर्द होता है।

ऐसे में, निचे कुछ बातें बताई जा रही हैं, जिसके जरिए आप यह समझ सकती हैं, कि आपको पेट में दर्द की समस्या किन कारणों से हो रही हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं-

गैस से होने वाले दर्द की पहचान क्या है ?

  • सामान्यतः गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को पेट में दर्द की समस्या गैस के कारण होती है। क्योंकि, इन दिनों शरीर में प्रोजेस्टीरोन हॉर्मोन का उत्पादन होता है, अगर इसका उत्पादन अधिक मात्रा में होता है तब वह पूरे शरीर के मुलायम मांसपेशीय टिस्सू को शिथिल बना देता है। इनमें गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रेक्ट भी शामिल है। जिसके कारण महिलाओं का पाचन तंत्र धीमा हो जाता है, उर यह गैस के कारण को उत्पन्न करता है।

  • हालाँकि, जब पेट में गैस के कारण दर्द हो रही हो तब पेट में चुभन सी महसूस होती है, और यह दर्द एक जगह न होकर पूरे पेट में होता है। साथ ही, इससे खट्टी डकार आने लगती हैं। जो कि इसका सबसे बड़ा लक्षण होता है।  

  • इसके अलावा, इन दिनों गैस बनने का एक कारण यह भी है कि आप जो कुछ भी खाती हैं वह पचने में मुश्किल होती हैं, और कुछ खाद्य पदार्थ जो पेट में सीधे तौर पर गैस का निर्माण करते हैं। जैसे कि बीन्स, पत्ता गोभी, फूल गोभी, छोटी बंद गोभी, हरी गोभी, प्याज आदि। इन सब्जियों को पचने में समय लगता है, या फिर कह सकते हैं की आसानी से नहीं पचता है। इतना ही नहीं, इनमें से कुछ सब्जियां सल्फर युक्त गैस के उत्पादन का कारण भी होती हैं, जिनकी वजह से दुर्गंध वाली गैस निकलती है। इसलिए, इन दिनों आसानी से पचने वाला आहार का सेवन करें।

  • इतना ही नहीं प्रेगनेंसी के दौरान युटेरस का आंतों पर दवाब पड़ने के कारण कभी-कभी कब्ज की शिकायत होने लगती है, जिससे भी महिलाओं में दर्द की समस्या उत्पन्न होने लगती है। हालाँकि, आप इससे बचने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं और आहार में हरी पत्तेदार सब्जियों को शामिल करें। इसके अलावा, गर्भावस्था के दौरान गैस कम करने का सबसे कारगर तरीका यह है कि गैस पैदा करने वाले भोजनों का सेवन कम से कम किया जाए।  

क्रेम्प से होने वाले दर्द की पहचान क्या है ?

  • डिलिवरी का टाइम आने पर पेट में दर्द कुछ अलग तरह से आता है। साधारणतौर पर यह गर्भावस्था का समय पूरा हो जाने पर ही होता है। यह दर्द रुक-रुक कर होता है और काफी तेज़ होता है जैसे कि पीठ में होता है। इससे आपको पीरियड्स और ऐंठन के साथ लगातार पीठ के निचले हिस्से में या पेट में दर्द की समस्या हो सकती है।

  • इसके अलावा, अगर आपको लगातार दबाव महसूस हो रहा है तो समझ जाइए कि ये प्रसव पीड़ा संकेत है। हो सकता है कि आपको हर थोड़ी देर पर ऐसा महसूस हो या ये भी हो सकता है कि दर्द लगातार बना रहे। इतना ही कुछ खाने और पीने पर भी आपको दर्द महसूस हो सकता है।

हालाँकि, यदि आपमें इस तरह की कोई भी लक्षण दिखे तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क किया जाना चाहिए ताकि जल्द से जल्द इलाज़ किया जा सके। क्योंकि, थोड़ी सी लापरवाही माँ और बच्चे दोनों के लिए नुकसानदायक होते हैं।

loader