गर्भावस्था में महिलाएं न केवल पपीता बल्कि इन फ़ूड को भी हाँथ न लगाएं

गर्भावस्था का हर वो एक पल बेहद खास होता है, लेकिन इसके लिए जरूरी है कि आप अपना ख्याल खुद रखें। क्योंकि, थोड़ी से लापरवाही आपके लिए बेहद घातक हो सकती है। खासकर इस दौरान माँ को अपने खान-पान का विशेष तौर से ख्याल रखना पड़ता है, क्योंकि आपके उचित खान-पान पर ही बच्चे का विकास निर्भर करता है। ऐसे में, यह बेहद जरूरी है कि आप इस दौरान वैसे आहार को शामिल करें जो आप और आपके बच्चे के लिए अच्छा हो।

हालाँकि, इस दौरान कई महिलाएं अनजाने में कुछ गलतियां कर बैठती हैं जिसकी वजह से न केवल उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ता है बल्कि, गर्भपात तक हो जाता है। ऐसे में, निचे कुछ खाद्य पदार्थों के बारे में बताई जा रही है, जिसका ख्याल महिलाओं को रखना चाहिए, जिनमें निम्न शामिल हैं-

गर्म आहार

वैसे खाद्य पदार्थ जिसकी तासीर गर्म होती हो उसे गर्भवती महिलाएं भूलकर भी हाँथ न लगाएं। क्योंकि इससे गर्भपात का खतरा बना रहता है।

कच्चे अंडे

कुछ लोगों को आपने देखा होगा कि दूध में कच्चे अंडे डाल कर इसका सेवन करते हैं, लेकिन गर्भवती महिलाओं के लिए इसका सेवन अच्छा नहीं माना जाता है। क्योंकि, इससे साल्मोनेला नामक संक्रमण होने का काफ़ी ख़तरा रहता है, जो उल्टी और दस्त का कारण बन सकता है और जो आपके बच्चे के स्वास्थ्य को भी प्रभावित कर सकता है। ऐसे में, गर्भवती महिलाओं को कच्चे या आंशिक रूप से पके हुए अंडे को खाने से बचना चाहिए।

कैफीन

गर्भावस्था में डॉक्टर माँ को कैफीन का सेवन न करने की सलाह देते हैं। अगर कुछ महिलाओं को इसकी आदत है तो उन्हें इसकी कम मात्रा लेने की सलाह देते हैं। क्योंकि, रोजाना 200 मि.ग्रा. से अधिक कैफीन लेने से गर्भपात और कम-वज़न-वाले शिशु के जन्म का जोखिम बढ़ जाता है। इसलिए प्रतिदिन दो कप इंस्टेंट कॉफी या दो कप चाय से अधिक का सेवन न करें।

पपीता

अक्सर आपने सुना होगा कि गर्भवती महिलाओं को पपीते का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह गर्भपात का कारण हो सख्त है। क्योंकि, इसमें पाया जाने वाला लेटेक्स आपके गर्भाशय में दबाव पैदा कर सकता है, जिससे कि इस तरह की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

अधपका मांस

गर्भवती महिलाओं को भूलकर भी कच्चे या अधपके मांस का सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि, एक तो यह आसानी से पचने में मुश्किल पैदा करता है, और दूसरा अधपके मांस में हानिकारक जीवाणु होने की संभावना रहती है। इसलिए सभी किस्म के मांस को तब तक पकाएं, जब तक कि उनसे सभी गुलाबी निशान न हट जाएं।  

विटामिन ए सप्लीमेंट

विटामिन ए स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी होता है। लेकिन प्रेग्नेंसी के दौरान, विटामिन ए का अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि विटामिन की जरूरत से ज्यादा इंटेक बच्चे को जन्मजात समस्या का रोगी बना सकता है।

फास्ट फ़ूड

हम सभी जानते हैं कि फ़ास्ट फ़ूड हमारे लिए कितना नुकसानदायक है। बात अगर गर्भवती महिला की हो तो, फ़ास्ट फ़ूड को नजरअंदाज करना और भी ज्यादा जरूरी होता है। खास तौर पर हॉट डॉग, गर्भवती महिलाओं को नहीं खाने चाहियें। क्योंकि अध्ययनों में भी हॉट डॉग्स को कैंसर का कारण पाया गया है।

मछली

कुछ विशेष प्रकार की मछलियां (स्‍वॉर्डफिश) ऐसी होती हैं, जिनमें मरकरी मौजूद होता है। यही मर्करी न सिर्फ बच्चे के विकास को धीमा कर सकता है, बल्कि उसके मस्तिष्क को क्षतिग्रस्त भी कर सकता है।

एल्‍कोहल

एल्‍कोहल, बच्‍चे के विकास में काफी नुकसानदायक होता है और इसे जल्‍दी होने वाली गर्भावस्‍था के दौरान पीने से बचना चाहिये। क्योंकि, शराब से भ्रूण शराब सिंड्रोम, विकासात्मक विकारों और गर्भपात के लिए खतरा बढ़ जाता है। इसी तरह अन्‍य मादक पदार्थो के सेवन से भी बचना चाहिये।

मॉर्डर्न मोना- मदर लाइफस्टाइल! एक दैनिक कॉलम, जहाँ महिलाओं से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है।  जैसे- स्वास्थ्य, फैशन, फिटनेस, बच्चों का रख-रखाव, मनोरंजन, सेक्स आदि की जानकारी के लिए आप अपने सवाल इस ईमेल https://zenparent.in/communityपर भेज सकते हैं।

loader