इन 4 तरीकों से प्रेगनेंसी में तनाव बच्चे को प्रभावित करता है

प्रेगनेंसी में तनाव लेना शिशु के लिए बहुत ज्यादा है खतरनाक | Pregnancy men tanaw lena shihsu ke liye bahoot jyada khatarnak hai

प्रेगनेंसी में तनाव लेना न केवल माँ के लिए घातक है, बल्कि उससे ज्यादा खतरनाक शिशु के लिए है। क्योंकि, इस दौरान तनाव से घिरी महिलाओं के स्वास्थ्य के साथ इम्युन सिस्टम पर भी बुरा असर पड़ता है, जो कि बच्चे के स्वास्थ्य को नुकसान पहुँचाता है। गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिलाओं में तनाव शारीरिक और मानसिक विकार को पैदा करता है। क्योंकि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के शरीर में बहुत सारे बदलाव देखने को मिलते हैं, जिस कारण महिलाएं इस दौरान अधिक तनाव का अनुभव करती हैं। ऐसे में, तनाव से ग्रसित महिलाएं अपना और अपने बच्चे का ख्याल नहीं रख पाती हैं। इतना ही नहीं वो संतुलित आहार का भी सेवन नहीं कर पाती हैं और ना ही डॉक्टर के संपर्क में रहती हैं।

तनाव से पीड़ित महिलाएं गर्भावस्था के दौरान शराब पीने, धूम्रपान और ड्रग्स जैसे जोखिम कार्य को अंजाम देती हैं जिसका असर न केवल उनके स्वास्थ्य को प्रभावित करता है बल्कि उनके बच्चे को भी खतरे में डालता है। इतना ही इससे गर्भपात, अपरिपक्व जन्म , और बच्चे के जन्म के समय कम वजन सहित अनेकों गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं  बच्चे को अपना शिकार बना सकते हैं।

हालाँकि, इन मामलों में प्रेगनेंसी के दौरान तनाव से निपटना बहुत जरूरी हो जाता है। क्योंकि, इसका दुष्प्रभाव शिशु के लिए काफी खतरनाक हो सकता है। ऐसे में, निचे इसके दुष्प्रभाव बताए जा रहे हैं, जो निम्न हैं-

उच्च रक्तचाप की समस्या

इस दौरान, नवजात शिशु के फेफड़े में लगातार उच्च रक्तचाप की समस्या उत्पन्न हो सकती है, जिससे कि फेफड़ों की रक्त वाहिकाएं गंभीर अवस्था में पहुंच जाती है।  

गर्भपात का कारण

गर्भावस्था के दौरान बहुत अधिक तनाव गर्भपात के कारण को जन्म देता है, इसलिए इस दौरान महिलाओं को इससे बच कर रहना चाहिए।

जन्म-दोष

इसके तहत बच्चे के रीढ़ की हड्डी और मस्तिष्क को प्रभावित करने सहित, ओमफ़लसील यानि कि पेट के अंगों को प्रभावित करने के साथ-साथ अंग कुरूपता भी हो सकता है।

समय से पहले जन्म

तनाव के कारण जो सबसे बुरा असर होता है वह यह है कि शिशु का जन्म 37 हफ्ते के पहले ही हो जाता है। साथ ही, जन्म के समय बच्चे का कम वजन लगभग 5 पाउंड और 8 औंस के बराबर होता है।  

ऐसे में, महिलाएं गर्भावस्था के दौरान खुद को तनाव मुक्त रखने का प्रयास करें। इसके लिए आप चाहें तो कुछ हल्के-फुल्के एक्सरसाइज कर सकती हैं, या फिर अपने पसंद के गाने सुने।

आपकी बिंदु- एक दैनिक कॉलम है, जहाँ आपको हर मर्ज़ की दवा मिल सकती है। इसके लिए आप घरेलू नुस्खे, हेल्दी फ़ूड से लेकर तमाम सभी चीज़ों की जानकारियों और अपने सवाल इस ईमेल aapkihindieditor@zenparent.in पर भेज सकते हैं। 

loader