इन 4 कारणों से होता है समय से पहले शिशु का जन्म

समय से पहले शिशु के जन्म को प्रीमैच्योर बर्थ भी कहा जाता है। इस दौरान शिशु का जन्म 9 महीने से पहले यानि कि 37 हफ्ते के पहले ही हो जाता है। जो बच्चे समय से पहले जन्म लेते हैं उनमें स्वास्थ्य संबंधी कई परेशानियाँ होती हैं। इतना ही नहीं ऐसे शिशु की देखभाल दूसरे बच्चे के मुकाबले अधिक करनी पड़ती है और साथ ही इन्हें संक्रमण का खतरा हमेशा बना रहता है।

अब बात यह आती है कि आख़िरकार ऐसा क्या कारण है जिसके चलते शिशु का जन्म समय से पहले होता है। ऐसे में, निचे कुछ बातें बताई जा रही हैं, जो समय से पहले बच्चे के जन्म की ओर इशारा करते हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं-

गर्भ में एक से अधिक बच्चे का होना

जब माँ जुड़वाँ बच्चे की माँ बनने वाली होती हैं, तब इस स्थिति में बच्चे का जन्म समय से पहले होता है।

अधिक मात्रा में ब्लीडिंग होना

जब किसी महिला को अधिक मात्रा में ब्लीडिंग की समस्या हो रही हो तब इस स्थिति में भी बच्चे का जन्म अपने नियत समय से पहले होता है। हालाँकि, इस परिस्थिति में डॉक्टर की मदद लेनी पड़ती है।

एमनियोटिक थैली का फटना

बच्चे का सुरक्षा कवच कहा जाने वाला पानी की थैली यदि किसी कारणवश फट जाता है तब भी शिशु का जन्म पहले हो जाता है। क्योंकि, बच्चे इस थैली में लिपटे होते हैं, जैसे ही यह थैली फटती है इसका साफ मतलब है कि शिशु अब बाहर आने वाला है।

वजन का कम होना

अगर आपका वजन कम है तब ऐसे में भी आपको समय प्रसव होने का खतरा बना रहता है। इसलिए अपने खान-पान पर ध्यान रखें।

इसके अलावा, यदि आपको पहला प्रसव भी समय से पहले हुआ है तब दूसरे में भी इसकी संभावना बढ़ सकती है। इसलिए हमेशा डॉक्टर के संपर्क में रहें ताकि डॉक्टर आपके हर गतिविधि पर नजर रख सकें।

आपकी बिंदु- एक दैनिक कॉलम है, जहाँ आपको हर मर्ज़ की दवा मिल सकती है। इसके लिए आप घरेलू नुस्खे, हेल्दी फ़ूड से लेकर तमाम सभी चीज़ों की जानकारियों और अपने सवाल इस ईमेल aapkihindieditor@zenparent.in पर भेज सकते हैं।

loader