दूसरी बार माँ बनने पर पहले बच्चे के लिए ब्रैस्ट फीडिंग

जब आप दूसरी बार माँ बनती हैं तो भी, आप अपने पहले बच्चें को ब्रैस्ट फीडिंग करवा सकती हैं। इससे कोई समस्या नहीं होती। क्योकि आपका शरीर तब भी मिल्क प्रोडक्शन करता है। यहाँ तक कि दूसरे बच्चें के जन्म के बाद, आप दोनों बच्चों को ब्रैस्टफीडिंग करवा सकती हैं।

बस आपको इस बात का ख़ास ख्याल रखना होगा कि आप उचित पोषक आहार ले रहीं हैं। क्योंकि दोनों ही चीजों (ब्रैस्ट फीडिंग और प्रेगनेंसी) के लिए, आपका सभी पोषक तत्वों का सेवन, करना और पूरी तरह से स्वस्थ होना बेहद जरूरी है। हेल्दी और बैलेंस डाइट लें। इससे आपके गर्भ में पल रहें बच्चें और आप, दोनों की हेल्थ अच्छी रहेगी।  लेकिन अगर आपकी प्रेग्नेंसी में, कोई कॉम्प्लिकेशन है या आप बिमार हैं, तो आपके लिए थोड़ा मुश्किल हो सकता है।

अगर हॉर्मोन में बदलाव के कारण, पहली प्रेग्नेंसी में, आपके निप्पल सेंसिटिव थे तो आपको ब्रैस्टफीड के दौरान, सोर निप्पल (निप्पल में दर्द) जैसी समस्या हो सकती है। प्रेग्नेंसी के दौरान, आपके शरीर में ऑक्सीटोसिन नामक हॉर्मोन निकलता है, जिससे आपके ब्रैस्ट में मिल्क कम बनता है। ऑक्सीटोसिन, प्रेग्नेंसी के अंत में, लेबर के दौरान बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह गर्भाशय में संकुचन करके, लेबर पैन स्टार्ट करता है।

यदि आपको निम्नलिखित समस्या है तो आपको डिलीवरी से पहले, ब्रैस्टफीडिंग छुड़वना पढ़ सकता है-

  • अगर आपको पहले समय से पहले लेबर हुआ हो,  
  • अगर आपका मिसकैरेज हुआ हो,  
  • अगर आपको, प्रेग्नेंसी के दौरान, ब्लीडिंग हो रही हो,  

जब आप प्रेग्नेंसी के 4 या 5 वें महीनों में, पहुंचती हैं तो ब्रैस्ट मिल्क में बदलाव होता है। कोलोस्ट्रम का निर्माण होता है। कोलोस्ट्रम, आपके बच्चें के लिए वह पहला दूध होता है, जो बच्चें को बिमारियों से लड़ने की शक्ति देता है। जन्म के बाद, बच्चा सबसे पहले इसी को पीता है। इसलिए, इस समय आपके पहले बच्चें को दूध के स्वाद में कुछ अंतर लगता है। हो सकता है कि बच्चा खुद-ब-खुद ब्रैस्टफीडिंग छोड़ दें और यह भी संभव है कि वह और ज्यादा चाव से दूध पीने लगें। इस बात की चिंता न करें कि बाद में आपके दूसरे बच्चें को कोलोस्ट्रम नहीं मिलेगा। क्योकि आपका शरीर बच्चें के जन्म के बाद, खुद-ब-खुद कोलोस्ट्रम बना लेगा।

अगर आप प्रेग्नेंट होती है और आपका पहला बच्चा एक साल से कम उम्र का है तो ब्रैस्टफीडिंग के बाद, उसका वजन जरूर बढ़ेगा। इस बात को लेकर आपको कोई चिंता करने की जरुरत नहीं है।

अगर बच्चें के जन्म के बाद, आप अपने दोनों बच्चों को ब्रैस्टफीडिंग करवाना चाहती है या नहीं, यह आपका पर्सनल डिसीजन होता है। अगर आप इस बात के लिए तैयार नहीं है कि आप अपने दोनों बच्चों को फीडिंग करवाएंगी तो जैसे ही आप प्रेग्नेंट हो, उसी समय ब्रैस्टफीडिंग छुड़वा दें।  

loader