डिलीवरी के बाद महिलाओं को कितने हफ्ते तक होती है ब्लीडिंग की समस्या ?

शिशु के जन्म के बाद महिलाओं में यह समस्या बेहद आम बात है, खासकर शुरुआत का पहला हफ्ता। क्योंकि, इन दिनों लोकिया जो कि हैवी और ब्राइट रेड या फिर क्लॉट्स में हो सकता है। लेकिन, यह समस्या धीरे-धीरे, भूरे रंग के गुलाबी, और अंत में पीले या सफेद रंग में बदल जाता है। हालाँकि, आपमें यह समस्या प्रसव के दो से तीन हफ्ते या फिर अधिक से अधिक छह हफ्ते तक तक दिखाई दे सकता है।

लोकिया क्या है ?

अब आपके मन में एक सवाल जरूर उत्पन्न हो रहा होगा कि यह लोकिया क्या है। ता आपको पता होना चाहिए कि लोकिया एक तरह का योनिस्राव है जो प्रसव के बाद महिलाओं में सामान्य रूप से होता है। जो कि शिशु के जन्म के बाद शरीर द्वारा गर्भ की परतों या झिल्लियों को बाहर निकालने का एक तरीका है। लेकिन, जैसे-जैसे गर्भाशय अपनी अवस्था में आने लगता है वैसे-वैसे यह समस्या खत्म हो जाती है।

6 हफ्ते से अधिक ब्लीडिंग होने पर क्या समस्या हो सकती है ?

बहुत कम मामले में, प्रसव के बाद बहुत दिनों तक रक्तस्राव की समस्या देखने को मिलती है। लेकिन, कुछ मामलों में ऐसी स्थति तब उत्पन्न होती है जब महिलाओं में लम्बे समय तक प्रसव पीड़ा या फिर बच्चेदानी के संक्रमित होने के कारण होती है | अगर आपमें डिलीवरी के बाद बहुत लंबे समय तक ब्लीडिंग की समस्या हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

प्रसव के बाद ब्लीडिंग की समस्या कब खतरनाक हो सकती है ?

– किसी प्रकार का संक्रमण होने पर।

– लोकिया से बहुत ही दुर्गंध आने पर।

– आपको ठंड के साथ बुखार लग रही हो।

– चार हफ्ते से अधिक दिनों तक हैवी ब्लीडिंग होने पर।

– बेहोशी या चक्कर महसूस होएं पर।

यदि किसी महिला में इस तरह की समस्या हो तो समय रहते डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि, यह आपके लिए घातक हो सकता है।

किस कारण से महिलाओं में अधिक ब्लीडिंग होती है ?

जब किसी महिला के गर्भाशय में संक्रमण की स्थिति होने के साथ-साथ जब आप बहुत लंबे समय तक खड़ी रहती हैं या फिर आप ठीक होने से पहले काम करना शुरू कर देती हैं तब आपमें इस तरह की स्थिति उत्पन्न हो सकती है।

प्रसव के बाद पीरियड्स कब सामान्य अवस्था में वापस आएगा ?

आमतौर पर, पीरियड्स दुबारा से शुरु होने का समय हर महिला में अलग-अलग होता है। क्योंकि, इस समय पीरियड्स का आना इस बात पर निर्भर करता है कि आप शिशु को स्तनपान करा रही हैं या नहीं, और अगर करवा रही हैं, तो कितनी मात्रा में। हालाँकि, स्तनपान करने वाली महिलाओं में पीरियड्स को सामान्य तरीके से वापस आने में 6 महीने से 1 साल तक का समय लग जाता है।

मॉर्डर्न मोना- मदर लाइफस्टाइल! एक दैनिक कॉलम, जहाँ महिलाओं से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है।  जैसे- स्वास्थ्य, फैशन, फिटनेस, बच्चों का रख-रखाव, मनोरंजन, सेक्स आदि की जानकारी के लिए आप अपने सवाल इस ईमेल https://zenparent.in/communityपर भेज सकते हैं।

Feature Image Source: revistapetra.com

loader