35 के बाद कैसे गर्भपात के खतरे को कम करें

गर्भपात का उम्र पर क्या प्रभाव पड़ता है? | Garbhpat ka umra par kaya prabhaw padta hai?

किसी भी महिला के लिए माँ बनना सबसे सुखद पल होता है, लेकिन इनके इस ख़ुशी को किसी की नज़र लगती है वह है गर्भपात का खतरा। क्योंकि, इस से उबर पाना किसी भी महिला के लिए बहुत ही मुश्किल का काम होता है। अगर देखा जाय तो गर्भपात अक्सर बिना किसी कारण के हो जाता है, जिसे समझने और इससे उबरने में महिला को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

किस समय गर्भपात का खतरा सबसे अधिक रहता है ?

अक्सर गर्भपात गर्भावस्था के शुरुआती दौर में होता है, खासकर तीसरे महीने के अंदर इसका खतरा अधिक रहता है। अगर गर्भपात गर्भावस्था के पहले 12 हफ्तों में होता है तब प्रारंभिक गर्भपात कहा जाता है। प्रारंभिक गर्भपात आमतौर पर होता है जब भ्रूण जिस रूप में विकसित होना चाहिए नहीं हो पाता। क्रोमोजोम समस्याओं को इसका सबसे आम कारण माना जाता है । यह आमतौर पर बिना किसी कारण के होती हैं और शिशु के सही विकास में रोकथाम लाती है। इसलिए, महिलाओं को शुरुआत के तीन महीने आराम करने की सलाह दी जाती है।

35 के बाद गर्भपात का खतरा क्यों बढ़ जाता है?

बढ़ती उम्र के साथ महिलाओं में कुछ स्वास्थ्य समस्याओं के कारण गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है। उम्र बढ़ने पर भ्रूण को विकासित में होने में समस्या होती है जिससे गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है। 30 साल की आयु पर आपके गर्भपात का जोखिम पांच में से एक होता है । जबकि, 35 साल की आयु पर आपका जोखिम दो में से एक होता है।

हालाँकि, यह आपके उम्र के साथ-साथ आपके हेल्थ पर भी निर्भर करता है, जैसे कि मोटापा, मधुमेह या थायराइड जैसी बीमारियां गर्भपात का कारण हो सकती है। इसके अलावा, गर्भाशय की भी कुछ असामान्यताएं गर्भपात के खतरे को बढ़ा सकती हैं । गर्भावस्था के दौरान होने वाले कुछ संक्रमण गर्भपात का कारण बन सकते हैं। इनमें लिस्तिरेइओसिस और टोक्सोप्लाज़मोसिज़ शामिल हैं । यौन संचारित संक्रमण जैसे की और क्लैमाइडिया, या फिर और पॉलीसिस्टिक अंडाशय का दोष जो आपके हार्मोन को प्रभावित करता है और इसके खतरे को बढ़ाता है।

35 के बाद किन महिलाओं को ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है ?

हाई ब्लड प्रेशर, जेस्टेशनल डायबिटीज, प्लेसेंटा प्रेविया, प्रीक्लेम्पसिया और प्रीमैच्योर बर्थ (समय से पूर्व शिशु का जन्म), यह सभी प्रॉब्लम्स हैं, जो प्रेगनेंसी के दौरान होती हैं। जब आप पहले से ही इनके लिए तैयार रहती हैं और हेल्दी रूटीन के साथ-साथ डॉक्टर के साथ भी जुड़ी रहती हैं, तो आप इन परेशानियों को आराम से हैंडल कर सकती हैं।  

जिन महिलाओं को पहले एक्टोपिक प्रेगनेंसी (अस्थानिक गर्भावस्था), हो चुकी हो (एम्ब्रोय या भ्रूण का यूटरस या गर्भाशय में बनने के बजाय फेलोपियन ट्यूब में बन जाना) उन महिलाओं को और ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत होती है। हालाँकि इस समस्या का संबंध भी महिला की उम्र से नहीं होता, क्योंकि इस तरह की प्रेगनेंसी में हर उम्र की महिला को अलर्ट रहने की जरूरत होती है।

मुझे कैसे पता चलेगा कि गर्भपात हो गया है ?

योनि से रक्तस्राव

मिसकैरेज के लक्षणों में से एक है वजाइनल डिस्चार्ज। यह भूरे रंग का स्पॉटिंग या गहरे लाल रंग की ब्लीडिंग भी हो सकती है जो कई दिनों तक होती रहती है। लेकिन कई बार गर्भावस्था की पहली तिमाही में हल्की वजाइनल ब्लीडिंग आम बात है। लेकिन,  आप एक बार डॉक्टर से जरूर संपर्क करें।

पेट में दर्द

गर्भावस्था के दौरान जब महिलाओं को तेज़ पेट में दर्द की समस्या हो तब इस तरह के लक्षण गर्भपात का संकेत माना जाता है। कुछ मामलों में ऐंठन व दर्द के कारण सांस लेना भी मुश्किल हो जाता है। यह भी मिस्कैरेज का एक कारण है। इसलिए गर्भावस्था के दौरान पेट या पीठ में होने वाले तेज दर्द शुरू होते ही तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

35 के बाद महिलाएं गर्भपात के खतरे को कम कर सकती हैं

  • 35 के बाद उन महिलाओं को, जिनकी उम्र 40 हो ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत होती है। खास तौर पर, वह महिलाएं, जिनमें जेनेटिक या क्रोमोजोमल डिफेक्ट्स (डाउन सिंड्रोम) हो उनके लिए ख़तरा थोड़ा बढ़ जाता है।

  • हमेशा डॉक्टर के संपर्क में रहें क्योंकि, डॉक्टर आपकी सेहत के हिसाब से आपको गाइड करते हैं। यदि डॉक्टर को लगता है कि आपका स्वास्थ्य आपको प्रेगनेंसी की इजाजत देता है तभी आप आगे अपना कदम बढ़ाएं।

  • जो सबसे बड़ी चीज़ है वह यह है कि आप पाने लाइफस्टाइल में बदलाव करें, क्योंकि यह आपमें गर्भपात के खतरे को कम कर सकता है। इसके लिए स्वस्थ आहार लें, रोजाना एक्सरसाइज करें, धूम्रपान बिलकुल भी न करें और शराब को तो हाथ भी न लगाए, इस तरह आप एक हेल्थी बेबी को जन्म दे सकती हैं।

मॉर्डर्न मोना- मदर लाइफस्टाइल! एक दैनिक कॉलम, जहाँ महिलाओं से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है।  जैसे- स्वास्थ्य, फैशन, फिटनेस, बच्चों का रख-रखाव, मनोरंजन, सेक्स आदि की जानकारी के लिए आप अपने सवाल इस ईमेल https://zenparent.in/communityपर भेज सकते हैं।

loader