31 वें हफ्ते में आपका शरीर 

इस हफ्ते में आने के बाद बच्चे का आकार बढ़ने लगता है, और वह गर्भाशय को भरने लगता है, जिससे कि आपको साँस लेने में कठिनाई हो सकती है। इतना ही नहीं, इस समय में आपके पेट का आकार बड़ा होने के कारण आपको सोने में भी परेशानी हो सकती है, क्योंकि इस समय बच्चे रह-रह कर आपको किक कर सकते हैं। इसके अलावा, आपको बार-बार यूरिन पास करने जैसी समस्या से दो-चार होना पड़ सकता है।   

हालाँकि, इस हफ्ते के आते ही आपके डिलीवरी की तारीख नजदीक आने लगती है, साथ ही आप हॉस्पिटल की पैकिंग भी शुरू कर देती हैं। इसके अलावा, यदि आपके कोई बड़े बच्चे हैं तो उन्हें यह समझाएं की अब आप उनके लिए एक नए भाई / बहन को लाने जा रहें हैं जिसके लिए आप कुछ दिनों के लिए बाहर रहेंगी।  

सामान्यतौर पर इस वक़्त हर महिलाएं थोड़ी नर्वस हो जाती हैं। क्योंकि, इस वक़्त आपको थोड़ा डर लगा रहता है अपने डिलीवरी को लेकर। ऐसे में, आप खुद के उपर ध्यान नहीं दे पाती हैं, इस समय महिलाएं सोचती कुछ हैं और करती कुछ और हैं। ऐसे में, आप कोशिश करें कि जब भी आप बाथरूम जा रही हों या वापस आ रहीं हो तब थोड़ा संभल कर चलें, क्योंकि इस वक़्त गिरने का खतरा बहुत रहता है। साथ ही इस बात का भी ख्याल रखें कि आप इस समय आरामदायक चप्पल का चुनाव करें।

इस हफ्ते में बेबी बम्प के बढ़ने से आपको पीठ में दर्द की समस्या उत्पन हो सकती है। ऐसे में, इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप योगा थेरेपिस्ट की मदद ले सकती हैं। क्योंकि, यह आपको कुछ स्ट्रेच की जानकारी दे सकते हैं, जिससे आपको पीठ में होने वाले दर्द से राहत मिल सकती है। इसके अलावा, आपका बम्प पर खुजली की समस्या उत्पन्न हो सकती है, इसके लिए आप नारियल का तेल लगा सकती हैं।   

 

loader