टीवी सीरियल में एक बार फिर खड़ा हुआ विवाद, 9 साल के लड़के ने भरी माँग

आजकल लोग कामयाबी के पीछे इस कदर पागल हैं कि उन्हें अच्छे-बुरे के बीच का फर्क समझ में नहीं आता है, ऐसा हम नहीं बल्कि लोगों का सोचना है। जी हाँ, इन दिनों सोनी टीवी के एक सीरियल पहरेदार पिया की ने सोशल मीडिया पर काफी हंगामा खड़ा किया है। जिसका मुख्य कारण है 9 साल का लड़का, 19 साल की पत्‍नी का जिन्होंने इस सीरियल में पति-पत्नी की भूमिका निभाया है।

क्या है कहानी ?

हालाँकि, जैसा कि नाम से ही समझ में आता है कि इसमें 19 साल की पत्नी 9 साल के पति का पहरेदार बना है यानि कि वह उनकी सुरक्षा करती है। आपको बता दें कि पहरेदार पिया की’ की कहानी एक 19 साल की लड़की और 9 साल के बच्चे की है जो कि पति-पत्नी हैं।  

क्या है मामला ?

आपको बता दें कि इस सीरियल को लेकर पहले भी विवाद हो चूका है, जिसमें इसे बाल-विवाह को बढ़ावा देने वाला और काफी घटिया बताया गया था। लेकिन, इन दिनों जिस बात को लेकर विवाद बढ़ रहा है वह यह है कि अब इन दोनों को हनीमून के लिए भेजा जाएगा। ऐसे में, यह बताया जा रहा है कि शो के मेकर्स हनीमून सीक्वेंस फॉरेन लोकेशन में शूट करने का प्लान कर रहे हैं। इसके अलावा, यह भी खबर आ रही है कि लंदन में इस सीक्वेंस को शूट किया जा सकता है। लेकिन, लोगों को इस बात से हैरानी है कि हनीमून सीक्वेंस के इस शो में यह क्या दिखाएंगे ?  

इतना ही नहीं इस सीरियल में कुछ चीज़ें ऐसी भी हैं जिनके ऊपर बात उठाई जा सकती हैं, जैसे कि-

मांग-भराई सीन

इस सीन को देखने के बाद आप यही कह सकते हैं कि अब ये क्या दिखाएंगे। क्योंकि, कभी-कभी आपको यह यकींन नहीं होगा कि आप किस देस में हैं। क्योंकि, अपने देस में शादी को सबसे पवित्र बंधन माना गया है लेकिन, यहाँ शादी जैसे शब्द का मज़ाक बना दिया गया है। वहीं, यदि दूसरे देश की बात करें तो उन जगहों पर इस तरह के शो को बैन कर दिया जाता है। लेकिन, इस देश में लोग इस तरह के धारावाहिक को बहुत ध्यान से देखते हैं। लेकिन, शो के निर्माता को यह बात समझनी चाहिए कि इसमें दिखाए जाने वाले बाल विवाह कानून की नज़र में दंडनीय अपराध है।

बॉर्डरलाइन पीडोफिलिया

इस सीरियल के एक सीन में यह दिखाया गया है कि 9 साल का बच्चा अपने शादी की रात को अपनी पत्नी के साथ बेड पर है। हालाँकि, इस दृश्य में वह कुछ भी “आपत्तिजनक” नहीं कर रहे हैं, लेकिन जब आप उन्हें देखते हैं तब आपको खुद शर्मिंदगी महसूस होती है। आपको बता दें कि पीडोफिलिया भी कानून के तहत एक दंडनीय अपराध है। इसके साथ ही मुझे पूरा यकीन है कि यह पोंकों अधिनियम ( POCSO Act) के तहत भी दंडनीय है।

सहमति के बिना तस्वीरें लेना

इसमें कुछ तस्वीरें ऐसी भी हैं जिसमें यह दिखाया गया है कि वह छोटा सा बच्चा लड़की का पीछा करता है और उसका फोटो खिंचता है। अगर देखा जाए तब आप इसे कानून की नज़र में अपराध समझ सकते हैं। क्योंकि, अभी हाल ही में चंडीगढ़ छेड़खानी केस में पुलिस ने बीजेपी नेता सुभाष बराला का बेटा विकास बराला को लड़की का पीछा करते हुए दोषी करार दिया है।

हालाँकि, देखा जाए तो इसमें बहुत हद तक आपत्तिजनक बातें हैं, जो न केवल आपके या हमारे बच्चों के लिए गलत है बल्कि समाज के हर बच्चे पर एक गलत छाप छोड़ सकता है। एक तो पता नहीं कि किस हद तक यह सही है कि छोटे बच्चों से डेली सोप या फ़िल्में करवाते हैं। क्योंकि, इसका हमलोगों को सही मायने में कोई अंदाजा नहीं है कि नैतिकता के साथ इन्हें कैसे ट्रीट किया जाता है। लेकिन 1 9-वर्षीय महिला के साथ प्यार में पड़ने वाले इस बच्चे को एक बार जरूर समझाने की जरूरत है कि यह आपके साथ सही नहीं हो रहा है।

Translated by Supriya Singh

loader