स्तनपान के दौरान भूलकर भी माँ न करें इन 5 फ़ूड का सेवन

स्तनपान कराने वाली महिलाओं को बहुत सोच-समझ कर आहार का सेवन करना चाहिए। क्योंकि, वह जो कुछ भी खाती-पीती हैं उसका सीधा असर उनके शिशु पर पड़ता है। क्योंकि, कुछ ऐसे खाद्य-पदार्थ हैं जिसके सेवन से आपमें गैस की समस्या उत्पन्न हो सकती है। जिस कारण शिशु को पेट में दर्द या गैस की समस्या उत्पन्न हो सकती है। जिससे वह ज्यादा रोना शुरू कर देता है और आप समझ भी नहीं पाती हैं कि वह क्यों रो रहा है।

हालंकि, स्तनपान कराने वाली महिलाओं को ताजे फलों और सब्जियों के सेवन पर अधिक ध्यान देने के लिए कहा जाता है। साथ ही, प्रोटीन, कैल्शियम और आयरन से भरपूर भोजन लेने की सलाह भी दी जाती है। लेकिन, यह भी सच है कि कोई इंसान एक ही खाना खा-खा कर बोर हो जाता है, ऐसे में आप अपने टेस्ट में बदलाव करने के लिए बीच-बीच में कुछ चटपटा खाना खा सकती हैं। लेकिन, इसका सेवन अधिक मात्रा में और रोजाना न करें। साथ ही ऐसे खाद्य पदार्थों के सेवन के बाद आप अजवायन और सौंफ का पानी पी सकती हैं इससे शिशु एक पेट में दर्द की समस्या नहीं होगी।  

किस तरह के आहार गैस बनाते हैं ?

ऐसे खाद्य पदार्थ जिसमें बहुत ज्‍यादा मात्रा में स्‍टार्च, फाइबर, या शुगर हो, वह खाने के बाद गैस बनाती है। ऐसे में, अगर आपका शिशु दूध पियेगा तो उसके भी पेट में गैस बनेगी और उसे पाचन संबन्‍धी समस्‍या हो सकती है।

स्तनपान के समय किन फ़ूड का सेवन न करें ?

खट्टे फल

खट्टे फलों और उनके रस में पाए जाने वाले कुछ तत्व आपके पेट में गैस बना सकती है, जिससे कि बच्चे का पेट खराब हो सकता है। साथ ही बच्चे खट्टी डकार और दूध की उल्टियाँ कर सकते हैं। ऐसे में, महिलाएं ज्यादा खट्टे फलों का सेवन न करें, इसके अलावा आप खट्टे फलों से मिलने वाले विटामिन C की कमी को पूरा करने के लिए, पपीता या आम खा सकती हैं।

पनीर

स्तनपान कराने वाली महिलाओं को पनीर या चीज़ का ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि, इससे भी गैस बनती है और साथ ही इसमें मौजूद घातक बैक्‍टीरिया शिशु के लिए नुकसानदायक होते हैं।

मूली और पत्‍तागोभी

मूली और पत्तागोभी स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भूलकर भी नहीं करना चाहिए। क्योंकि, इससे बहुत अधिक गैस बनती है, साथ ही इससे हार्ट बर्न की समस्या भी उत्पन्न होती है। इसके सेवन से शिशु को भी पाचन संबंधी समस्या उत्पन्न हो सकती है।

मूंगफली

ऐसा माना जाता है कि स्तनपान करवाने वाली माँ को मूंगफली का सेवन करते समय भी ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि, यदि परिवार की मेडिकल हिस्ट्री में एलर्जी शामिल है तो मूंगफली जैसी एलर्जी करने वाली चीजों से दूर रहना होगा। संभव है कि माँ मूंगफली खाती हैं तो भी बच्चे को इससे एलर्जी हो सकती है। बच्चे में चकत्ते या दूसरे लक्षणों से एलर्जी का पता लगाने की कोशिश करें।

कॉर्न

बच्चों को अक्सर मक्के से एलर्जी होती है। लेकिन इस बात का पता लगाना थोड़ा मुश्किल होता है, कि इतने छोटे बच्चे को भी मक्के से एलर्जी है या नहीं। इसके लिए माँ मक्का खाने के बाद, बच्चे में एलर्जी से संबंधित लक्षण उभरते हैं या नहीं, इस बात की जाँच करें।

साथ ही, स्तनपान कराते समय अपने पास पेय पदार्थ रखना सही रहता है। जब आप शिशु को स्तनपान करा रही होती हैं, तो शरीर ऑक्सीटोसिन नामक हॉर्मोन निकालता है, जिससे आपको प्यास लगने लगती है। पानी के अलावा, दूध और फलों का रस भी आपकी प्यास बुझाने के काम आ सकते हैं। बेहतर यह है, कि जब भी आप अपने शिशु को स्तनपान कराएं, तो एक गिलास पानी पी लें। इसके साथ-साथ बीच में जब भी प्यास लगे, तो पानी पीती रहें।

आपकी बिंदु- एक दैनिक कॉलम है, जहाँ आपको हर मर्ज़ की दवा मिल सकती है। इसके लिए आप घरेलू नुस्खे, हेल्दी फ़ूड से लेकर तमाम सभी चीज़ों की जानकारियों और अपने सवाल इस ईमेल aapkihindieditor@zenparent.in पर भेज सकते हैं।

loader