Should I give my Child a Cellphone

Published On  July 16, 2015 By

मेरी बिटिया की लिखावट काफ़ी खराब है और कई बार मैं खुद भी उसकी लिखी चीज़ें पढ़ नही पाती। मज़ाक में, उसकी दादी माँ उसकी अंग्रेजी को देवनागरी लिपि में लिखा हुआ बताती हैं।
मैं इस तरह की माँ भी नहीं हूँ, जो बच्चे की सुंदर लिखावट के लिए उसके पीछे ही पड़ जाए क्योंकि लिखाई को सुधारने में थोड़ा धैर्य रखना ज़रूरी है| आइये यह आसन तरीका अपनाकर देखें।

करतकरत अभ्यास के : बच्चों को ज़बरदस्ती बिठाकर, हाथ से लिखने का काम देने की बजाय कुछ मज़ेदार काम दें। जैसे, सुन्दर इनविटेशन कार्ड बनाना, बर्थडे या थैंकयू कार्ड, मेन्यू कार्ड , शॉपिंग लिस्ट आदि। ऐसा खेल खिलाएं, जिसमें खूब हाथ से लिखने का काम हो जिससे वे बोर ना हो। साथ ही, कुछ होमवर्क भी कराएं , फिर देखें, अपने बच्चों में लिखने का चाव कैसे उभरता है।

ड्रॉयिंग, पज़ल्स और मेज़ सुलझाना : इसमें बच्चों को लिखने की भिन्नभिन्न मुद्राओं को अपनाने में आसानी होती है। बैठकर पेन पेंसिल हाथ में पकड़ना, आँखों और हाथ का तालमेल, लगातार लिखना, मोटर स्किल का कंट्रोल इससे लॉजिक और रीज़निंग भी अच्छी हो जाती है।

रेत और पानी से खेलना : बचपन से ही रेत से खेलने से हाथों की ताकत बढ़ती है। रेत/मिटटी खोदना, इसे हाथों से बराबर करना , फिर कई प्रकार के आकार गढ़ना, उनके हस्तकौशल को बढ़ाता है। पानी से खेलते समय पानी को बिना गिराए कप में डालना, कप भरना , एक बर्तन से दूसरे बर्तन में डालना उनके हाथों और उँगलियों को मज़बूत करता है। उन्हें ग्लास , कप , चम्मच आदि पकड़ने की आदत पड़ती है। इस तरह से उन्हें महीन और भारी काम करने की आदत पड़ती है, जो उँगलियों की दक्षता बढ़ाती है। यह अच्छी लिखावट के लिए मददगार साबित होती है।

राइटिंग टूल्स : अगर आपके बच्चे को पेंसिल पकड़ने में मुश्किल रही है तो बाज़ार में जम्बो पेंसिल और राइटिंग होल्डर्स मिलते हैं| इनसे भी बच्चों की लिखावट अच्छी होने में मदद मिलती है।
कई बार बच्चों की बाएँ हाथ की पकड़ दायें हाथ से अच्छे होती है, तो दायें हाथ से लिखने पर राइटिंग अच्छी नहीं होगी। खेलते समय, लिखते समय अब्ज़र्व करें, कि कहीं आपने पेंसिल गलत हाथ में तो नहीं दी|

खूब सारा प्यार दें और उत्साह बढ़ायें : हर बच्चे के लिए यह सबसे ज़रूरी है कि आप उसका कॉन्फिडेन्स बढ़ायें और निराशा तो बिलकुल ना दिखायें|। प्रयत्न करने पर प्रशंसा करें, दूसरे लोगों के बारे में बताएं जिन लोगों ने कोशिश कर के राइटिंग सुधारी।

निरंतर प्रयास और अच्छी प्रबलता से आपका बच्चा सुंदर लिखाई लिख पाने में सफल अवश्य होगा!