शिशु के पहले दांत निकलने के बारे में यह 7 बातें सभी माँ को पता होनी चाहिए

जब निकल रहा हो आपके बच्चे का पहला दांत तो उनके आहार में जरूर शामिल करें इन चीज़ों को | Jab nikal raha ho aapke bachhe ka pahla dant to unke aahar men jaroor shamil karen in chizon ko.

हर शिशु में दांत निकलने की शुरुआत 6 महीने से शुरू हो जाती है, और यह प्रक्रिया लगभग 3 से 4 साल तक चलती है। हालाँकि, इस दौरान शिशु को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। लेकिन, थोड़ी सी समझदारी दिखा कर आप अपने शिशु को इस दर्द से थोड़ा छुटकारा दे सकती हैं।

क्या पहली बार दांत निकलते समय दर्द होगा ?

जी हाँ शिशु का पहला दांत निकलना काफी कष्ट भरा हो सकता है। क्योंकि, इसका अनुभव शिशु एक या दो महीने पहले से ही करना शुरू कर देते हैं, और तो और इस दौरान उन्हें काफी दर्द का सामना करना पड़ सकता है। इसके साथ ही, जब आपके शिशु के मुंह से लार निकलना शुरू हो जाए तब आपको समझना चाहिए कि अब उसके दन्त निकलने वाले हैं।

दांत निकलने के लक्षण क्या हैं ?

  • मसूढ़ों में सूजन और दर्द की समस्या

  • गलों में सूजन के साथ लालिमा

  • बुखार या दस्त (डायरिया) की समस्या

  • बच्चे का चिड़चिड़ा स्वभाव

  • खाने के लिए मना करना

  • शिशु में सर्दी-जुकाम की समस्या

  • पेट में संक्रमण या कोई अन्य इनफेक्शन का होना, आदि हो  सकता है।

दांत निकलते समय बच्चे को क्या आहार दें ?

आमतौर पर, जब शिशु में दांत निकलने शुरू हो जाते हैं तब वह खाना-पीना छोड़ देते हैं। लेकिन, उनके मना करने के बावजूद भी आप उनके आहार में इन चीज़ों को जरूर शामिल करें जिससे कि उन्हें कमजोरी महसूस न हो।

उबला हुआ सेब

शिशु में दांत निकलने के दौरान उन्हें उबला हुआ सेब देना अच्छा होता है, इससे शिशु को ताकत मिलती है। इसके लिए आप सेब के छिलके को हटा कर उसे उबाल लें और इसे अच्छे से पीस कर खाने के लिए दें।

केला

केला भी दांत आने के समय अच्छा माना जाता है, क्योंकि इस दौरान शिशु को काफी दस्त होती है जिससे कि वह बेहद कमजोर हो जाते हैं। ऐसे में, केला उनके दस्त को रोकने में कारगर होता है।

विटमिन और मिनरल्स

दांत निकलने के दौरान बच्चे को ऐसी चीजें दे, जिनमें कैल्शियम, प्रोटीन, आयरन, विटमिन और मिनरल्स पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हों।

गाजर

इसके अलावा आप अपने शिशु के हाथ में खाने की कोई ऐसी सख्त चीज, जैसे- गाजर, बिस्किट आदि को पकड़ा सकती हैं। जिससे कि उसे मसूढे की खुजली से भी राहत मिलेगी और उसकी सेहत को भी कोई नुकसान नहीं होगा।

हाइड्रेटेड रखें

इसके अलावा, इन दिनों शिशु में दस्त की समस्या भी देखने को मिलती है, जिससे कि उसके शरीर में पानी की कमी हो जाती है। इसलिए, उसे समय-समय पानी, जूस आदि देती रहें।

इन बातों का भी ध्यान रखें

  • जब मसूड़े से फट कर दाँत निकलने लगते हैं तब शिशु दर्द से झुंझलाकर रोने लगते हैं। उस वक्त आप साफ उंगली या कपड़े से मसूड़ों की मालिश करें इससे उन्हें काफी आराम मिलेगा।

  • मसूड़ों की सूजन से राहत दिलाने के लिए आप पाने शिशु को ठंडा टीथर दें इससे शिशु को काफी आराम मिलेगा।

  • शिशु के मुँह से जो लार निकलता है उसको पोंछने के लिए एक साफ मुलायम कपड़ा रखें। क्योंकि लार के कारण चेहरे और गर्दन पर रैश निकलने की संभवना रहती है।

  • साथ ही जब शिशु के दांत निकल जाएं तब कोशिश करें कि उसे दूध की बोतल देकर या स्तनपान करवाकर न सुलाएं। डिब्बाबंद (फॉर्मूला) दूध और स्तनदूध रात में आपके शिशु के मुंह में इकट्ठा हो सकता है, जिससे दांतों में सड़न पैदा हो सकती है।

आपकी बिंदु- एक दैनिक कॉलम है, जहाँ आपको हर मर्ज़ की दवा मिल सकती है। इसके लिए आप घरेलू नुस्खे, हेल्दी फ़ूड से लेकर तमाम सभी चीज़ों की जानकारियों और अपने सवाल इस ईमेल aapkihindieditor@zenparent.in पर भेज सकते हैं

loader