सर्दियों में इन 4 तरीकों से रखें अपने बच्चे का ख्याल, नहीं होंगे बीमार

इन तरीकों से आपके बच्चे सर्दियों में भी रहेंगे खिले-खिले | In tarikon se aapke bachhe sardiyon men bhi rahengen khile-khile

सर्दी का मौसम शुरू होते ही सबसे ज्यादा किसी बात की चिंता होती है, तो वह है छोटे बच्चों की। क्योंकि, छोटे बच्चे सबसे अधिक सर्दियों में होने वाले बीमारी की चपेट में आते हैं। इसका सबसे बड़ा कारण यह होता है कि जिस तरीके से शिशु की देखभाल की जानी चाहिए वो नहीं हो पाता है। और दूसरा कारण यह है कि छोटे बच्चे में रोग प्रतोरोधक क्षमता बहुत ही कमजोर होती है, जिससे कि बच्चे बीमारी की चपेट में जल्दी आ जाते हैं। हालांकि, इन सर्दियों के मौसम में थोड़ा सा ध्यान रख कर आप अपने बच्चे को इससे बचा सकते हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं-

बच्चे को ढँक कर रखें

सर्दियों के मौसम में जो सबसे बड़ी बात है, वह यह है कि आप अपने बच्चे को जितना हो सके गर्म रखने की कोशिश करें। क्योंकि, आप अपने बच्चे को जितना ढँक कर रखेंगी वह उसके लिए उतना ही फायदेमंद होगा। हालांकि, छोटे बच्चों के सिर, पैर और कानों को हमेशा ढककर रखना चाहिए। क्योंकि, बच्चे सबसे अधिक ठंड की चपेट में सिर और पैरों की वजह से ही आते हैं। ऐसे में, यह कोशिश करें कि बच्चों को हमेशा दो से तीन कपड़े पहना कर रखें।

सरसों तेल की मालिश

यदि आप अपने छोटे से बच्चे को ठंड से बचा कर रखना चाहते हैं, तो इसके लिए सरसो तेल की मालिश एक बेहतर विकल्प है, क्योंकि यही एक तरीका है जो बच्चे को ठंड से राहत दिला सकती है। इसके लिए आप सरसो के तेल में जायफल डालकर हल्का गर्म कर लें, उसके बाद इससे बच्चे की मालिश करें। मालिश करते समय इस बात का जरूर ध्यान रखें कि जब आप उसे मसाज कर रहें हों तो रूम बंद हो ताकि ठंडी हवा घर में न आने पाए क्योंकि इससे बच्चे को ठण्ड लग सकती है।

साफ-सफाई का रखें ध्यान

कुछ लोग ठंड के कारण अपने बच्चे को बहुत दिनों तक एक ही कपडे में छोड़ देते हैं, जो कि बहुत ही गलत है। क्योंकि, ऐसा करने से आपके बच्चे को संक्रमण हो सकता है। हालांकि, यह जरूरी नहीं है कि आप अपने बच्चे को रोजाना नहलाएं, बल्कि आप किसी सूती के कपडे को गर्म पानी में गिला करके उसके शरीर को पोछ सकते हैं। जिससे कि बच्चे खुद को तरो-ताज़ा महसूस कर सकें।

सुबह की धुप में बिठायें

बच्चे को गर्म रखने के लिए आप अपने बच्चे को धुप में छोड़ दें, क्योंकि इससे बच्चे को विटामिन डी के साथ-साथ उनके शरीर को गर्माहट मिलेगी। इस दौरान बच्चे को पूरी तरीके से ढँक कर न रखें, शरीर के कुछ अंगों को खुला रहने दें जैसे कि हांथ, पैर आदि ताकि बच्चे को गर्माहट महसूस हो।

आपकी बिंदु– एक दैनिक कॉलम है, जहाँ आपको हर मर्ज़ की दवा मिल सकती है। इसके लिए आप घरेलू नुस्खे, हेल्दी फ़ूड से लेकर तमाम सभी चीज़ों की जानकारियों और अपने सवाल इस ईमेल https://zenparent.in/community पर भेज सकते हैं।

loader