सामान्य प्रसव के बाद इन 5 तरीकों से तुरंत निपटें महिलाएं

किसी भी गर्भवती महिला की डिलीवरी या तो नॉर्मल होती है या फिर सिजेरियन। लेकिन, दोनों ही सूरतों में महिलाओं को जल्द से जल्द ठीक होने की जरूरत पड़ती है ताकि वह अपने शिशु का ध्यान रख सकें। हालाँकि, कुछ लोगों को लगता है कि महिलाओं को सिर्फ सिजेरियन के बाद ही ठीक होने में समय लगता है, जबकि ऐसा नहीं है जो महिलाएं सामान्य तरीके से बच्चे को जन्म देती हैं उन्हें भी ठीक होने में समय लगता है।

इसलिए, निचे कुछ ऐसी समस्या के बारे में बात की जा रही है जो प्रसव के बाद हर महिलाओं में सामान्य रूप से देखने को मिलती है। लेकिन, इससे निपटने के तरीके भी आपको पता होने चाहिए, जो निम्न हैं-

कब्ज की समस्या

शिशु के जन्म के बाद कब्ज की समस्या महिलाओं में बेहद आम बात है जिसे नाकारा नहीं जा सकता है। कुछ महिलाओं में कब्ज की समस्या इतनी अधिक होती है कि उन्हें दर्द के साथ-साथ बबासीर की समस्या भी उत्पन्न होने लगती है। लेकिन, इसके लिए आप परेशान न हो बल्कि अपने आहार में फाइबर फ़ूड और गर्म दूध का सेवन जरूर करें इससे आपको काफी आराम मिलेगा। इन सब के वाबजूद आपको काफी तकलीफ हो रही हो तब आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें ताकि वह कुछ दवा दे सकें।

बार-बार यूरिन पास होना

गर्भावस्था के दौरान आपके शरीर में पानी की बहुत अधिक मात्रा मौजूद होती है, लेकिन जैसे ही आप बच्चे को जन्म देती हैं वैसे ही आपके शरीर से पानी धीरे-धीरे बाहर निकलने लगती है। इसलिए, आपने देखा होगा कि शिशु के जन्म के बाद आपको बार-बार यूरिन पास करने की समस्या हो सकती है। ऐसा इसलिए, क्योंकि शरीर में जो अतिरिक्त पानी होता है वह यूरिन के जरिए बाहर निकलता है।

हालाँकि, इस दौरान आपको पैरों में सूजन की समस्या भी देखने को मिल सकती है। ऐसे में, परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह खुद ब खुद समाप्त हो जाएगी।

क्या इस समय पानी कम पीना चाहिए ?

नहीं, इस समय आप जितना हो सके खुद को हाइड्रेटेड रखें क्योंकि, जब आपक स्तनपान कराती हैं तब आपके बॉडी से काफी मात्रा में ऊर्जा की खपत होती है, जिसके कारण आपको प्यास का अनुभव होता है। इसलिए, जितना हो सके पानी पियें।

पेट में दर्द की समस्या

शिशु के जन्म के बाद आपको कुछ दिनों ताल पेट में दर्द या खिंचाव की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। ऐसा इसलिए, क्योंकि जब गर्भावस्था के दौरान आपके गर्भाशय का आकार बहुत अधिक बढ़ जाता है, लेकिन प्रसव के बाद वह अपनी अवस्था में आने लगता है। हालाँकि, आप इस दौरान कुछ रक्तस्राव की समस्या का भी सामना कर सकती हैं, जो कि गंदगी के तौर पर बाहर निकलता है।

स्तनपान के दौरान दर्द

जब आपमें दूध का उत्पादन शुरू होने लगता है, तब कुछ दिनों तक आपके स्तनों में सूजन और दर्द हो सकता है। हालाँकि, यह समस्या आमतौर पर अस्थाई होती हैं, जो धीरे-धीरे खुद ब खुद ठीक हो जाता है। ऐसे में आप इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए इस जगह की हल्के गर्म पानी से सिकाई कर सकती हैं इससे आपको काफी आराम मिलेगा।

इन सब के अलावा, महिलाएं इन बातों का भी ध्यान रखें-

उचित आहार का सेवन

यह सबसे जरूरी चीज़ है, क्योंकि आपके खान-पान पर आपके शिशु का विकास निर्भर करता है। इसके लिए अपने आहार में वैसे चीजों को शामिल करें जिससे कि आपमें स्तन दूध का निर्माण हो और आप शिशु को अच्छे से फीड करा सकें। साथ ही ज्यादा तला-भुना और बासी खाना न खाएं।

एक्सरसाइज करें

यदि आप अपने अंदर किसी भी तरह की समस्या को नहीं देखना चाहती हैं तब इसके लिए आप नियमित तौर पर एक्सरसाइज करें। क्योंकि, इससे आपकी मांशपेशियों को दुबारा से वापस आने में मदद मिलती है और आप जल्दी ठीक हो सकेंगी।

कुछ दिनों तक घर से बाहर न निकलें

शुरुआत के एक महीने आप घर से बाहर न निकलें और न ही शिशु को जाने दें। क्योंकि, भीड़-भाड़ वाली जगहों में संक्रमण होने का खतरा सबसे अधिक रहता है। इसलिए इन जगहों से दूरी बना कर रखें।

हालाँकि, इन सब बातों को ध्यान में रख कर आप इस समस्या से तुरंत छुटकारा पा सकती हैं।

loader