पढ़ाई का अधिक दबाव बना सकती है बच्चों को बीमार

बच्चों पर न बनाएं पढ़ाई का अधिक दबाव । Bachhon per na bananyen Padhayi ka adhik dabaw

अक्सर पेरेंट्स अपने बच्चे को नंबर 1 की कुर्सी पर बैठे देखना चाहते हैं, इसके लिए कहीं न कहीं वह उनके उपर पढ़ाई का दबाव भी बनाते हैं। लेकिन, पेरेंट्स यह भूल जाते हैं कि बच्चे का जब मन होगा तब भी वह पढ़ाई करेंगें, और तो और उनसे जोर-जबदरस्ती करके पढ़ाना बिल्कुल गलत है। लेकिन, उन्हें प्यार से जरूर पढ़ाया जा सकता है।  

 

हालाँकि, एक शोध में यह बात सामने आई है कि, जो पेरेंट्स अपने छोटे बच्चों पर बहुत अधिक पढ़ाई का बोझ डालने की कोशिश करते हैं, उनमें मेंटल डिसॉर्डर जैसी बीमारियां पाई गई हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि पढ़ाई के बढ़ते बोझ के कारण बच्चों को खेलकूद और आराम करने का समय नहीं मिल पाता। इससे कुछ बच्चों में ध्यान केंद्रित न कर पाने का मनोविकार पैदा हो गया है।  

 

ऐसे में एक पेरेंट्स को यह जरूर ध्यान रखना चाहिए कि बच्चे पर पढ़ाई को लेकर दबाव बनाने से क्या नुकसान हो सकता है। ऐसे में, इसके कुछ नुकसान निचे बताए जा रहे हैं, जो निम्न हैं-

बच्चों पर पढ़ाई के दबाव से नुकसान

  • नकारात्मक प्रभाव- बच्चों पर किसी भी चीज का ज्यादा दबाव नहीं डालना चाहिए, खासकर पढ़ाई का। क्योंकि, इससे बच्चों के दिमाग पर नकारात्मक असर पड़ता है। इतना ही नहीं, पेरेंट्स के लगातार दबाव बनाने के कारण कई बार बच्चे नकल या चोरी करने जैसी चीजों की बुरी लत में भी फंस जाते हैं। ऐसे में, पेरेंट्स भूलकर भी अपने बच्चों पर पढ़ाई का दबाव न बनाएं।

  • तनाव- बच्चों पर ज्यादा पढ़ाई का दबाव बनाने से उनमें तनाव जैसी समस्या उत्पन्न हो सकती है। कई बार बच्चे पढ़ाई के प्रेशर, तनाव और डिप्रेशन के चलते आत्महत्या करने की कोशिश करते हैं।

  • डांट कर न पढ़ाएं- कभी-कभी पेरेंट्स अपने बच्चे को डांट-फटकार कर पढ़ाने की कोशिश करते हैं, जिससे कि बच्चे जिद्दी हो जाते हैं। ऐसे में, यदि उन्हें प्यार से किसी चीज को विस्तार से समझाया जाता है, तो वह उसे आराम से मान जाते है। यही बात पढ़ाई पर भी लागू होती है, कि यदि बच्चे को बार-बार पढ़ने के लिए दबाव बनाया जाता है तो वे पढ़ाई से दूर भागने लगते हैं, और उनको वो चीज बोरिंग लगने लगती है।

ऐसे में, बच्चें की पढ़ाई को बोझिल बनाने के बजाय उसे मजेदार बनाएं। इसके लिए आप, अपने बच्चे को अपने साथ बैठकर खेल-खेल में मनोरंजक तरीके से पढ़ाने की कोशिश करें। जिससे कि बच्चे का मन पढ़ाई में लग सके।

 

आपकी बिंदु- एक दैनिक कॉलम है, जहाँ आपको हर मर्ज़ की दवा मिल सकती है। इसके लिए आप घरेलू नुस्खे, हेल्दी फ़ूड से लेकर तमाम सभी चीज़ों की जानकारियों और अपने सवाल इस ईमेल aapkihindieditor@zenparent.in पर भेज सकते हैं।

loader