मम्मी के न्यू ईयर रेज़लूशन

नया साल आने वाला होता है तभी से आप कुछ ना कुछ प्लॉन करना शुरू कर देती है जिसके लिए माँ काफी क्रेज़  होता है कि वो अपने बच्चे के लिए नया करे,ऐसे में माँ को चाहिए कि  अपने बच्चे के  साथ न्यू  रेसोलुशन्स प्लान करना चाहिए जिससे उनको भी अपने जीवन की अहमियत को समझने का मौका मिलेगा। न्यू ईयर रेसोलुशन्स में बच्चे को कुछ ऐसा तरीका से प्लॉन  करना

चाहिए ताकि जो हम अभी करते आ रहे है  वो चीजे को न दोहरायें  क्योकि हमे हमेशा अलग और नया करना चाहिए जिससे आपको  अपने माँ के साथ अच्छा प्लान करने का  अवसर भी मिलेगा एवं  आपका बच्चा लाइफ के इम्पोर्टेंस को भी समझने  की कोशिश करेगा | तो फिर आइये सीखते है कुछ टिप्स जिससे आप अपने बच्चे के साथ न्यू ईयर रेसोलुशन्स प्लान करने में काफी हेल्प मिलेगी :-

1- बच्चे का स्टडी टाइम फिक्स करना :– माँ को चाहिए की अपने बच्चे का पढ़ने का टाइम निर्धारित कारे क्योकि अगर इन सब एक्टिविटी पर ध्यान देनेगी तभी आपका बच्चा पढाई के इम्पोर्टेंस को समझेगा और आने वाले बोर्ड एग्जाम और कम्पेरेटिव एग्जाम की तैयारी को अच्छे तरीके से कर सकेगा |

2 – खेलने  समय निर्धारित करना :- बच्चो का खेलने का टाइम मिलना चाहिए जिससे उनकी मांशपेशियां मजबूत होंगी इसके लिए हमे स्टडी के साथ बच्चे को खेलने का भी टाइम बच्चो को देना चाहिए जिसमे टाइम भी निर्धारित करना चाहिए की कितने हॉर्स तक  आपका बच्चा खेले जो उसके फ्यूचर के लिए काफी अच्छा होगा |

3 -बच्चे के साथ बाहर जाने का प्लॉन करना :-आउटिंग प्लॉन करना बच्चो के लिए सबसे रिलैक्सिंग फील करना होता ऐसे में पेरेंट्स को चाहिए वो अपने किड्स के साथ वीकेन्ड प्लॉन करना चाहिए ताकि बच्चो की स्टडी का  लॉस न हो और वो अपना वीकेंड अच्छे से  एन्जॉय कर सके।

4 -इंटरटेनमेंट का हो समय:- न्यू ईयर स्टार्ट होते ही हमारे बच्चे के बोर्ड या अन्य एग्जाम शुरू होने  होते, ऐसे में उनको अपनी  स्टडी पर ज़्यादा फोकस करना होता जिसके के लिए वो इंटरटेनमेंट नही  कर पाते है, ऐसे माँ को चाहिए कि बच्चे को रिफ्रेशमेंट के लिए बच्चे कुछ टाइम देना चाहिए  ताकि वो टी.वी.शो या उनके फवरेट्स कार्टून्स को देखने का टाइम मिले जिससे वो अपनी स्टडी भी मन लगा करेंगे ही और आपका अच्छा और बेस्ट रिजल्ट भी देंगे |

5 -शॉपिंग पर जाना :– न्यू ईयर आते ही बच्चो में काफी उत्साह होता है नए ड्रेसेस को पहने का,जिसके लिए बच्चे  पेरेंट्स के साथ शॉपिंग करना पसंद करते है और पेरेंट्स को भी अच्छा मौका मिल जाता है किड्स के साथ बाहर मॉल या शॉप पर शॉपिंग करने का और उनके पसंद को जान पायंगे एवं उन चीजों को भी दिलाने में आपको बहुत ख़ुशी होती है जो आपके किड्स पसंद करेंगे |

6 – दिनचर्या में भारतीय संस्कृति का करे समाबेश :– माँ को चाहिए की अपने बच्चे को भारतीय संस्कृति के बिभिन्न पहलुओ से भी अवगत कराये  क्योकि हमारे बच्चे धीरे -धीरे भारतीय संस्कृति को पीछे छोड़ते हुए आगे बढ़ते जा रहे है,लेकिन इन आदतों को  पेरेंट्स को चाहिए कि  बच्चे को भारतीय संस्कृति को सिखाये और उसका पालन करे ताकि आने वाले वाले समय में बच्चे पीढ़ी दर पीढ़ी आगे ले जा सके   क्योकि हमारे बच्चे भारतीय मूल्यों और संस्कृति को भुलाते हुए आगे बढ़ते जा रहे है, बच्चो के पूर्ण विकास के लिए पाश्चात्य चीज़ों और भारतीय परिवेश का सही मिश्रण महत्वपूर्ण है।ऐसा इसलिए भी ज़रूरी है ताकि बच्चे इन्फेरियॉरिटी काम्प्लेक्स से ग्रस्त होकर अपनी भाषा, धर्म, मूल्य आदि को हेय दृष्टि से ना देखें।

7 -संगति में हो सुधार :- बच्चे को अच्छे दोस्त के साथ रहने के लिए उसके महत्व को माँ को अपने बच्चे की बताना चाहिए क्योंकि बच्चे ज़्यादातर समय अपने फ्रेंड्स के व्यतीत करते है  आदतो को सीखते है ऐसे में पेरेंट्स को चाहिए अच्छे और बुरे संगति के बारे में अपने बच्चे आदत में जरूर बताना चाहिए की क्या उनके लिए अच्छा है क्या ख़राब है |

 

loader