लीवर मजबूत करने के उपाय, और इससे बचने के तरीके

लीवर हमारे शरीर का एक बहुत बड़ा अंग माना जाता है जो पेट के दाएं और ऊपरी हिस्से में स्थित होता है। यह कई जटिल और महत्वपूर्ण कार्य करता है जो सभी शरीर के प्रणालियों को प्रभावित करता है।

लीवर का क्या कार्य है ?

  • यह रक्त की मात्रा में शर्करा (ग्लूकोज), प्रोटीन, और वसा को नियंत्रित करता है।

  • यह रक्त से बीलीरूबिन, अमोनिया और अन्य विषाक्त पदार्थों को निकालने का काम करता है।

  • लीवर कुछ पोषक तत्वों को संग्रहीत करता है, जैसे विटामिन ए, लोहा, और अन्य खनिज पदार्थों को।

  • कोलेस्ट्रॉल का निर्माण करता है, जो रक्त को थक्का, पित्त और कुछ महत्वपूर्ण प्रोटीन, जैसे एल्बूमिन को बनने में मदद करता है।

लीवर ख़राब होने के कारण

  • शराब का अधिक मात्रा में सेवन

  • अधिक मात्रा में धूम्रपान करना

  • तले-भूने खाद्य-पदार्थों का सेवन

  • बहुत अधिक मात्रा में दवाओं का सेवन

  • शरीर में मिनरल्स और विटामिन की कमी

लीवर ख़राब होने के लक्षण

यह लक्षण किसी भी व्यक्ति में उसके आधार पर हो सकता है, जैसे कि शुरूआती तौर में इसके लक्षण निम्न तरीके से नज़र आ सकते हैं, जैसे

  • थकान

  • कमजोरी

  • पेट में दर्द

  • भूख में कमी

इसके अलावा, इनके लक्षणों में शामिल हैं-

  • ब्लड में बिलीरुबिन की अधिक मात्रा होने के कारण त्वचा का पीला पड़ना।

  • खुज़ली की समस्या।  

  • पेट का फूलना भी इसका एक आम लक्षण है।

  • यूरिन का गाढ़ा और पीला होना।

  • त्वचा पर सफ़ेद धब्बे का पड़ना।

दबाने से भी पता चलता है लीवर का रोग

इसके अलावा, लिवर वाली जगह पर दबाने से जब आपको दर्द का अहसास हो तब यह समझना चाहिए कि आपको लिवर की समस्या है। ऐसे में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

लीवर को मजबूत करने के उपाय

अगर आप सच में चाहते हैं कि आपका लीवर बिल्कुल अच्छे तरीके से कार्य करे और इसे ख़राब होने से बचाया जा सके तो इसके लिए आप निचे बताए जा रहे बातों का जरूर पालन करें, जो निम्न हैं-

अलसी के बीज का सेवन

यह लीवर को हेल्दी रखने में सबसे अहम रोल निभाता है, क्योंकि इसमें फीटकोंस्टीटूएंट्स होने के कारण, अलसी के बीज हार्मोंन को ब्‍लड में घूमने से रोकता है और लीवर के परेशानी को कम करता है।

हेल्दी डाइट

अगर आप चाहते हैं कि आपका लीवर बिल्कुल स्वस्थ्य रहे तो इसके लिए सबसे जरूरी है कि आप अपने वजन को नियंत्रण में रखें। क्योंकि, यह नॉनएलकोहॉलिक फैटी लीवर जिगर की बीमारी (एनएफ़एडीडी) को रोकने में मदद करता है। क्योंकि, यह एक ऐसी स्थिति जिसके कारण सिरोसिस होता है।

सेब का सिरका

शायद आपको पता होगा कि सेब का सिरका, लीवर में मौजूद विषैले पदार्थों को बाहर निकालने का काम बहुत ही अच्छे तरीके से करता है। इसलिए इसका सेवन रोजाना करें ताकि आप पाने लीवर से गंदगी को हटा सकें।

शराब का सेवन न करें

अधिक शराब के सेवन से लीवर की कोशिकाओं को नुकसान पहुंच सकता है, इसके अलावा इसमें सूजन भी आ सकती है। जो कि आपके लिए आगे चलकर घातक हो सकता है।

बहुत अधिक दवाओं के सेवन से बचें

कुछ दवाओं के सेवन से गंभीर साइड इफेक्ट देखने को मिलता है, जैसे कि कोलेस्ट्रॉल की दवा जो लीवर की समस्याओं का कारण बन सकता है। यदि आप दर्द निवारक एसिटामिनोफेन (Tylenol) का सेवन बहुत अधिक मात्रा में करते हैं तब यह आपके लीवर को चोट पहुँचा सकता है।

वायरल हेपेटाइटिस की रोकथाम

यह एक गंभीर बीमारी है जो आपके लीवर को हानि पहुंचाने का काम करता है। इसके कई प्रकार हैं, जैसे कि हेपेटाइटिस ए जो कि खाने या दूषित पानी पीने से फैलता है। जबकि हेपेटाइटिस बी और सी रक्त के माध्यम से फैलता है।

 

मूली का जूस

यह भी लीवर संबंधित बिमारियों को दूर करने में अहम माना जाता है। इसलिए, जब भी आप मूली के जूस का सेवन करें तो घर का बना हुआ जूस ही पिएं।

एक्सरसाइज

लीवर को ठीक रखने के लिए एक्सरसाइज एक बेहतर विकल्प है, इसके लिए आप रोजाना अनुलोम-विलोम और भस्त्रिका प्राणायाम को करें।

Feature Image Source: www.lifemartini.com

loader