क्या आपके बच्चे को भी होती है दोस्तों से जलन ?

बच्चों को अपने दोस्तों से जलन पैदा होने के कारण | Bachhon ko apne doston se jalan paida hone ke karan

कहते हैं न कि दोस्ती जिंदगी का सबसे खूबसूरत रिश्ता होता है, यह बिल्कुल सही है। क्योंकि, यहाँ आप अपने लाइफ की हर खुशी और गम को एक दूसरे के साथ शेयर करते हैं, जिससे कि आप बहुत रिलैक्स फील करते हैं। लेकिन कई बार बेहद प्यार और परवाह होने के बावजूद भी दोस्त के लिये जलन की भावना पैदा हो जाती है। ऐसा क्यों होता है, कभी आपने जानने की कोशिश की है, तो चलिए आज मैं आपको अपने इस आर्टिकल के जरिए इस बात को बताती हूँ कि क्यों आख़िरकार इस रिश्ते में जलन पैदा होती है, जिनमें निम्न शामिल हैं-

 

  • दो दोस्तों के बीच आ जाए कोई तीसरा- आमतौर पर जब आप एक दूसरे दोस्त के बेहद करीब होते हैं, और इसी बीच उसमें कोई तीसरा इंसान एंट्री ले लेता है तब आपको जलन महसूस होती है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि दोनों एक दूसरे पर भावनात्मक रूप से काफी निर्भर भी होते हैं, लेकिन इस निर्भरता के बढ़ने से धीरे-धीरे असुरक्षा की भावना भी कहीं न कहीं घर करने लगती है। ऐसे में जब कोई तीसरा दोस्त आप दोनों के बीच आ जाता है, तब ईर्ष्या की भावना घर कर जाती है।   

  • फ्रेंड की जॉब या प्रमोशन- कई बार अपने से ज्यादा अपने दोस्त को ऊपर उठता हुआ देख कर भी आपके बच्चे के अंदर जलन या ईर्ष्या की भावना पैदा होती है। क्योंकि, कई बार अपने फ्रेंड की खुद से अच्छी जॉब या प्रमोशन को देखकर भी जलन की भावना उत्पन्न होती है।  

  • क्लास में टॉप करना- 'अगर दोस्‍त फेल हो जाए, तो दुख होता है, लेकिन दोस्‍त अगर फर्स्‍ट आ जाए, तो बहुत ज्यादा दुख होता है।' फिल्‍म 'थ्री-इडियट्स' का यह डायलॉग बिल्कुल सटीक है। क्योंकि, दोस्तों के बीच सबसे ज्यादा जलन इसी बात को लेकर होती है, जब एग्ज़ाम के रिजल्ट्स आते हैं, तो अपने नंबर से ज्यादा दोस्तों के नंबर जानने की इक्षा होती है, कि कही वो मुझ से आगे तो नहीं निकल गया है।

  • गर्लफ्रेंड भी एक वजह- कई बार इस तरह की समस्या तब उत्पन होती है, जब आपको कोई लड़की पसंद हो, और उस लड़की से आपके दोस्त की नजदीकियां बढ़ती जा रही हो तब ऐसे में भी जलन की भावना पैदा होती है। इसके अलावा, जब आपकी गर्लफ्रेंड से ज्यादा आपके दोस्त की गर्लफ्रेंड सुंदर हो तब भी ऐसे में जलन उत्पन्न होती है।

  • अचीवमेंट भी है एक वजह- कभी-कभी जब आपके अंदर बहुत ज्यादा जलन की भावना उत्पन होने लगती है, तब आप अच्छे और बुरे का फर्क भूल जाते हैं। खासकर, जब आपके फ्रेंड आप से ज्यादा सफलता के मुकाम पर होते हैं, तब आप इन चीजों को बर्दास्त नहीं कर पाते हैं। कई बार यह भी होता है कि आप अचीवमेंट के सामने खुद को छोटा महसूस करने लगते हैं, जिससे कि ऐसी भावनाएं उत्पन होती हैं।

हालाँकि, लोगों को यह समझना चाहिए कि आप या आपका दोस्त सफलता की उस उंचाईयों पर अपनी मेहनत की वजह से है। ऐसे में, ईर्ष्या की जगह आप खुद को उन सफलता की सीढ़ियों पर चढ़ने का रास्ता ढूंढे, वह आपके लिए सबसे बेहतर है।  

 

आपकी बिंदु- एक दैनिक कॉलम है, जहाँ आपको हर मर्ज़ की दवा मिल सकती है। इसके लिए आप घरेलू नुस्खे, हेल्दी फ़ूड से लेकर तमाम सभी चीज़ों की जानकारियों और अपने सवाल इस ईमेल aapkihindieditor@zenparent.in पर भेज सकते हैं।

loader